Chapter Chosen

पत्र एव डायरी

Book Chosen

हिंदी कक्षा 8 द्धितीय सत्र

Subject Chosen

हिंदी

Book Store

Download books and chapters from book store.
Currently only available for
CBSE Gujarat Board Haryana Board

Previous Year Papers

Download the PDF Question Papers Free for off line practice and view the Solutions online.
Currently only available for
Class 10 Class 12
अपने स्कूल की किसी समस्या के बारे में प्रधानाचार्य को पत्र लिखिए |

श्रीमान प्रधानाचार्य
सरदार विधामंदिर,
अमदाबाद |
२६-१-२०१६

विषय - विधालय के पुस्तकालय में विज्ञान और वैज्ञानिकों से सबधी पुस्तको कम होना |

आदरणीय गुरूजी,

सविनय निवेदन है की हमारे विद्यालय के पुस्तकायल में साहित्य की पुस्तको की भरमार है | एक-एक लेखक की कई-कई पुस्तके है | इन पुस्तको में कविता कहानी और उपन्यास आदि रचनाए है | परंतु विज्ञान से सबधित्त पुस्तके नहीं हाउ | वैज्ञानिकों की जीवन सबधी पुस्तक तो एक भी नहीं है | ऐसी पुस्तके से बहुत प्रेरणा मिलाती है | वैज्ञानिकों के अनुभव विज्ञान के प्रति जगाते है | पुस्तकालय में इनका अभाव बहुत खटकता है |

आशा है की आप अभाव की पूर्ती में ध्यान देंगे |

आपका आज्ञाकारी शिष्य,
दिप्स पाटिल


बीमारी के कारण अवकाश के लिए कक्षा-शिक्षक को पत्र लिखिए |


२५, आकाशगंगा
महात्मा गांधी मार्ग ,
गांधीनगर
सेक्टर- ५/B

आदरणीय गुजुजी,
कक्षा ८ (अ)

कल शाम मुझे झोरा का बुखार था | डॉक्टर की दिखाया | डॉक्टरने बताया की यह मलेरिया बुखार हाउ उर इसका कुछ दिन तक ढीक ढंग से उपचार करना होगा | स्वस्थ होने में काम-से-काम एक सप्ताह तो लग ही जाएगा |

अतएव आपसे प्रार्थना है की मुझे एक सप्ताह का अवकाश प्रदान करे | इस बीचा मेरी पढ़ाई का जो नुकसान होगा, मै स्वस्थ होते ही उसकी पूर्ती कर लूंगा |

आपका आज्ञाकारी शिष्य,
दिप्स पाटिल


आपने की हुई अपनी यात्रा या आपने किआ हुआ प्रवास का वर्णन करते हुआ अपने मित्र को पत्र लिखिए |

आश्रम पुरोहित
4 / आकाशनगर,
डेरी रोड, जामनगर
२६-१-२०१६

प्रिया मित्र दर्शन,
जयहिद |

तुम्हारा पत्र थोड़े बहुत दिन पहले आया था, लेकिन मै कन्याकुमारी के प्रवास में था और कल ही घर आया हु |

कन्याकुमारी भारत का प्रसिद्ध तीर्थस्थान है | यह तमिलनाडु राज्य में भारत एकदम दक्षिणी सिरे पर स्थिर है |

हम दादर एक्प्रेस ट्रेन से चैन्नई पहुंचे | हम वहा के 'मीनाक्षी' होटल में ठहरे | वहा दिसंबर महीने से ही काफी ठंड पड़ने लगती है |

दूसरे दीना हम एस.टी. बसमें कन्याकुमारी की और चल पड़े | सारा मार्ग नारियल के वृक्षो से भरा हुआ है | हरियाली देखकर मन झूम उठता है |

कन्याकुमारी एक छोटा-सा कस्बा है | हमने शाम के समय समृद्ध-तट पर भारी भीड़ देखी | लोग वहा का सूर्यास्त देखने के लिए एकत्र होते है | सूर्य का वैसा भव्य रूप मैने पहले कही नहीं देखा |

अगले दिन कन्याकुमारी का प्राचीन मंदिर और विवेकानद शिलास्मारक देखो | विवेकानंद की सुन्दर मूर्ती दर्शनीय है |

हमें कन्याकुमारी के बाजार से शाखा और सीपो से बनी हुई कुछ वस्तुए और एलबम खरीदे | कुछ चित्र में तुम्हे भेज रहा हु | शेषा कुशल है | अपने माता-पिता से मेरा प्रणाम कहना |

तुम्हारे मित्र,

दिप्स पाटिल


तुमने इस बार छुट्टियों  में क्या-क्या किया, यह अपने मित्र को कंप्यूटर पर ई-मेल  बताना हो, क्या लिखोगे ? 

पेमानद,
स्टेशन रोड,
गांधीनगर |
२६ जान्युआरी, २०१६

प्रिया मित्र सुमन,

इस बार हमने छुट्टियों अहमदाबाद में ही बिताने का निर्णय किया था | इसलिए मुझे इस अवकाश का उचित ढंग से उपयोग करना था |

में नित्य प्रात:काल व्यायाम शाला जाता था | वहा तरह-तरह के व्यायाम के साथ-साथ योग का भी अभ्यास करता था |

दोपहर को भोजन के बाद कुछ समय दूरदर्शन देखता था |

अपराह्न में साइकिल पर बैठकर मै कंप्यूटर क्लास में जाता था |

शाम को वही से हमारी दुकान पर जाता था और आठ बजे पिताजी के साथ घर लेटता था |

श्याम को दूरदर्शन देखता था या बहन के साथ कैरम खेलता था |

इस तरह छुट्टी के दिन कब बिता गए, इसका पता ही न चला |

तुम्हारा मित्र,

दिप्स पाटिल


अगर तुम्हे मोबाइल फ़ोन पर अपने मित्र को एस.एम.एस द्वारा बधाई संदेशा भेजता है, तो क्या लिखोगे ?

मेरे प्यारे लाल, आतर वकृत्व स्पर्धा में प्रथम आने पर ढेर सारी बधाईया | अपनी और से मै टाइटन भेजा रहा हु |

अब तो पार्टी में ही मिलेंगे | अभिनदन |

तुम्हारा ही,

दीपेश पाटिल