Chapter Chosen

रामवृक्ष बेनीपुरी- बालगोबिन भगत

Book Chosen

क्षितिज भाग २

Book Store

Download books and chapters from book store.
Currently only available for.
CBSE Gujarat Board Haryana Board

Previous Year Papers

Download the PDF Question Papers Free for off line practice and view the Solutions online.
Currently only available for.
Class 10 Class 12
बचपन में लेखक पक्का ब्राह्‌मण बनने के लिए क्या करता था?

बचपन में लेखक को स्वयं पर बहुत गर्व था क्योंकि वह एक ब्राहमण था। बाहूमण ही बहूम को जानता है। लेखक भी पक्का ब्राहमण बनने के लिए बहूम को जानना चाहता था। इसलिए वह संध्या करता, गायत्री का जाप करता, धूप-हवन करता तथा चंदन का तिलक लगाता था। लेखक उन सभी क्रियाओं में बढ़-चढ़ कर भाग लेता जिससे उसका ब्राह्मणत्व सिद्ध हो। उसने अपने ब्राह्मणत्व में गाँव के कई ऐसे लोगों के पैर छूने भी छोड़ दिए थे जो बाहूमण नहीं थे।
472 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:
न जाने वह कौन-सी प्रेरणा थी, जिसने मेरे ब्राह्‌मण का गर्वोन्नत सिर उस तेली के निकट झुका दिया था। जब-जब वह सामने आता, मैं झुककर उससे राम-राम किए बिना नहीं रहता। माना, वे मेरे बचपन के दिन थे, किंतु ब्राह्‌मणता उस समय सोलहो कला से मुझ पर सवार थी। दोनों शाम संध्या की जाती, गायत्री का जाप होता, धूप हवन जलाए जाते, चंदन-तिलक किया जाता और इन सारी चेष्टाओं से ‘ब्रहम’ को जानकर पक्का ‘ब्राह्मण’ बनने की कोशिशें होतीं- ब्रहम जानाति ब्राह्मण:!
लेखक के बचपन से ही उन पर क्या सवार थी?
  • शौकीनी 
  • ब्राह्मणता
  • पढ़ाकूपन
  • भक्तिभाव

B.

ब्राह्मणता
 
 
334 Views

‘बालगोबिन भगत’ पाठ के माध्यम से लेखक क्या संदेश देना चाहता हैं?

‘बालगोबिन भगत’ पाठ के लेखक ‘रामवृक्ष बेनीपुरी’ हैं। लेखक बचपन से ही बालगोबिन भगत को आदरणीय व्यक्ति मानता आया है। लेखक ब्राह्मण था और बालगोबिन भगत एक तेली थे। तेली को उस समय के समाज में अच्छा नहीं समझा जाता था। फिर भी ‘बालगोबिन भगत’ सबकी आस्था के कारण थे।
लेखक ने इस पाठ के माध्यम से वास्तविक साधुत्व का परिचय दिया है। गृहस्थी में रहते-हुए भी व्यक्ति साधु हो सकता है। साधु की पहचान उसका पहनावा नहीं अपितु उसका व्यवहार है। व्यक्ति का अपने नियमों पर दृढ़ रहना, निजी आवश्यकताओं को सीमित करना, सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के लिए प्रयत्नशील होना तथा मोह-माया के जाल से दूर रहने वाला व्यक्ति ही साधु हो सकता है। बालगोबिन भगत भगवान के निराकार रूप को मानते थे।
उनके अनुसार उनका जो भी है वह मालिक की देन है उस पर उसी का अधिकार है। इसीलिए वे अपने खेतों की पैदावार कबीर मठ में पहुँचा देते थे। बाद में प्रसाद के रूप में जो मिलता उसी से अपना निर्वाह करते थे। उन्होंने अपने की मृत्यु पर अपनी पुत्रवधू से सभी क्रिया-कर्म करवाए। वे समाज में प्रचलित मान्यताओं को नहीं मानते थे। उन्होंने पुत्रवधू को पुनर्विवाह के लिए उसके घर भेज दिया था। वे अपने निजी स्वार्थ के लिए कुछ नही करते थे। उनके सभी कार्य परहित में होते थे। वे अंत तक अपने बनाए नियमों में विश्वास करते हुए जीते रहे थे। उन्होंने आत्मा के वास्तविक रूप को पहचान लिया था। अंत में आत्मा का परमात्मा से मिलन हो जाता है इसलिए उसका मोह व्यर्थ है। व्यक्ति को अपनी मुक्ति के लिए परमात्मा से प्रेम करना चाहिए।
इस पाठ के माध्यम से लेखक लोगों को पाखंडी साधुओं से सचेत करना चाहता है। वास्तविक साधु वही होते हैं जो समाज के सामने उदाहरण प्रस्तुत करें और समाज को पुरानी सड़ी-गली परंपराओं से मुक्त कराएं।

1418 Views

‘बालगोबिन भगत’ पाठ के आधार पर बालगोबिन भगत का चरित्र चित्रण कीजिए।

‘बालगोबिन भगत’ पाठ के लेखक रामवृक्ष बेनीपुरी’ हैं। बालगोबिन भगत पाठ का मुख्य पात्र है। बालगोबिन भगत का चरित्र-चित्रण निम्नलिखित शीर्षकों के अंतर्गत किया गया है:
परिचय-बालगोबिन भगत गृहस्थी होते हुए भी स्वभाव से साधु थे। उनकी आयु साठ वर्ष से ऊपर थी। उनकी पत्नी नहीं थी। परिवार में एक बीमार बेटा तथा उसकी पत्नी थी।
व्यक्तित्व-बालगोबिन भगत मंझोले कद के व्यक्ति थे। उनका रंग गोरा था। बाल सफेद थे। वे लंबी दाढ़ी नहीं रखते थे। उनके चेहरे पर सफेद बालों के कारण बहुत तेज लगता था।
वेशभूषा-बालगोबिन भगत बहुत कम कपड़े पहनते थे। उनके अनुसार शरीर पर उतने ही कपड़े पहनने चाहिएं जितने शरीर पर आवश्यक हों। कमर पर एक लंगोटी पहनते थे। सिर पर कनफटी टोपी पहनते थे। सर्दियों में वे काली कंबली ओढ़ते थे। मस्तक पर रामानंदी चंदन का टीका होता था। वह टीका नाक से शुरू होकर ऊपर तक जाता था। गले में की जड़ों की एक बेडौल माला होती थी।
व्यवसाय- बालगोबिन भगत का काम खेती-बाड़ी था। वे एक किसान थे। वे अपने खेत में धान की फसल उगाते थे।
कबीर के भगत-बालगोबिन भगत गृहस्थी होते हुए भी साधु थे। उन्होंने अपने जीवन में कबीर जी का जीवन वृत्त उतार रखा था। वे कबीर जी को अपना साहब मानते थे। उनकी शिक्षाओं पर अमल करते थे। उनके अनुसार उनका जो कुछ है वह सब साहब (कबीर जी) की देन है।
मधुर गायक-बालगोबिन भगत एक मधुर गायक थे। उनका गीत सुनने वाला व्यक्ति अपनी सुध-बुध खोकर उन्हीं में खो जाता था। वे कबीर जी के पद गाते थे। कबीर जी के पद वे इस ढंग से गाते थे कि ऐसे लगता था कि सभी पद जीवित हो उठे हों। बालगोबिन भगत के संगीत का जादू सबको झूमने के लिए मजबूर कर देता था।
संतोषी वृत्ति के व्यक्ति-बालगोबिन भगत संतोषी वृत्ति के व्यक्ति थे। उनकी निजी आवश्यकताएं सीमित थीं। उनके खेत में जो पैदावार होती थी, वे उसे कबीर जी के मठ में पहुँचा देते थे। वहाँ से जो प्रसाद के रूप में मिलता था उसी में अपनी गृहस्थी का निर्वाह करते थे।

परमात्मा से प्रेम-बालगोबिन भगत भगवान के निराकार रूप को मानते थे। उनके अनुसार आत्मा की मुक्ति के लिए परमात्मा से प्रेम करना चाहिए। उन्होंने मृत्यु की सच्चाई जान ली थी कि अंत में शरीर में से आत्मा निकलकर परमात्मा में मिल जाती है इसलिए परमात्मा से प्रेम करना चाहिए।

मोहमाया से दूर-बालगोबिन भगत मोहमाया से दूर थे। उन्हें केवल परमात्मा से प्रेम था। वे किसी भी प्रकार के मोह माया के बंधन में नहीं बंधते थे। जब उनके इकलौते बेटे की मृत्यु हुई तो उन्होंने शोक मनाने की अपेक्षा उसे आनंद मनाने का अवसर माना था। इस दिन उनके बेटे की आत्मा शरीर से मुक्त होकर परमात्मा से मिल गई थी। उन्होंने बुढ़ापे में बेटे की मृत्यु के पश्चात् उसकी पत्नी को भी उसके घर भेज दिया था। वे किसी प्रकार के मोह में नहीं पड़ना चाहते थे। नियमों पर दृढ़- बालगोबिन भगत अपने बनाए नियमों पर दृढ़ थे। वे कभी भी किसी से बिना पूछे उसकी वस्तु व्यवहार में लाना तो दूर, छूते भी नहीं थे। गंगा स्नान जाते थे, समय मार्ग में कुछ भी नहीं खाते थे। उन्हें आने-जाने में चार-पाँच दिन लग जाते थे। वे अपनी दिनचर्या का पालन बीमारी में भी करते रहे थे।

सामाजिक परंपराओं के विरोधी-बालगोबिन भगत सामाजिक परंपराओं के विरोधी। उन्होंने अपने बेटे की मृत्यु के सभी क्रिया-कर्म अपनी पुत्रवधू से करवाए थे। उन्होंने अपनी पुत्रवधू को पुनर्विवाह के लिए मजबूर किया था। वे उसे अपने पास रखकर उसके मन को मरता हुआ नहीं देख सकते थे। वे ऐसी सामाजिक मान्यताएं नहीं मानते थे जो किसी को दुःख दें।

बालगोबिन का चरित्र उनके साधुत्व को प्रकट करता है।

2682 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:
न जाने वह कौन-सी प्रेरणा थी, जिसने मेरे ब्राह्‌मण का गर्वोन्नत सिर उस तेली के निकट झुका दिया था। जब-जब वह सामने आता, मैं झुककर उससे राम-राम किए बिना नहीं रहता। माना, वे मेरे बचपन के दिन थे, किंतु ब्राह्‌मणता उस समय सोलहो कला से मुझ पर सवार थी। दोनों शाम संध्या की जाती, गायत्री का जाप होता, धूप हवन जलाए जाते, चंदन-तिलक किया जाता और इन सारी चेष्टाओं से ‘ब्रहम’ को जानकर पक्का ‘ब्राह्मण’ बनने की कोशिशें होतीं- ब्रहम जानाति ब्राह्मण:!
लेखक स्वयं झुक कर उन्हें क्या करता था?

  • अभिवादन
  • नमस्ते
  • श्री राधे राधे
  • राम-राम

D.

राम-राम
618 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:
न जाने वह कौन-सी प्रेरणा थी, जिसने मेरे ब्राह्‌मण का गर्वोन्नत सिर उस तेली के निकट झुका दिया था। जब-जब वह सामने आता, मैं झुककर उससे राम-राम किए बिना नहीं रहता। माना, वे मेरे बचपन के दिन थे, किंतु ब्राह्‌मणता उस समय सोलहो कला से मुझ पर सवार थी। दोनों शाम संध्या की जाती, गायत्री का जाप होता, धूप हवन जलाए जाते, चंदन-तिलक किया जाता और इन सारी चेष्टाओं से ‘ब्रहम’ को जानकर पक्का ‘ब्राह्मण’ बनने की कोशिशें होतीं- ब्रहम जानाति ब्राह्मण:!

किस के कारण लेखक का सिर झुक गया था?
  • पुत्रपुत्र
  • पोतहू
  • बालगोबिन भगत
  • कबीर

C.

बालगोबिन भगत
257 Views