Chapter Chosen

आत्मा का ताप

Book Store

Download books and chapters from book store.
Currently only available for.
CBSE Gujarat Board Haryana Board

Previous Year Papers

Download the PDF Question Papers Free for off line practice and view the Solutions online.
Currently only available for.
Class 10 Class 12

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:- 
भले ही 1947 और 1948 में महत्वपूर्ण घटनाएं घटी हों, मेरे लिए वे कठिन बरस थे। पहले तो कल्याण वाले घर में मेरे पास रहते मेरी मां का देहांत हो गया। पिता जी मेरे पास ही थे। वे मंडला लौट गए। मई 1948 में वे भी नहीं रहे। विभाजन की त्रासदी के बावजूद भारत स्वतंत्र था। उत्साह था, उदासी भी थी। जीवन पर अचानक जिम्मेदारियों का बोझ आ पड़ा। हम युवा थे। मैं पच्चीस बरस का था; लेखकों, कवियों, चित्रकारों की संगत थी। हमें लगता था कि हम पहाड़ हिला सकते हैं और सभी अपने-अपने क्षेत्रों में, अपने माध्यम में सामर्थ्य भर-बढ़िया काम करने में जुट गए। देश का विभावन, महात्मा गांधी की हत्या क्रुर घटनाएं थीं। व्यक्तिगत स्तर पर मेरे माता-पिता की मृत्यु भी ऐसी ही क्रुर घटना थी। हमें इन क्रुर अनुभवों को आत्मसात् करना था। हम उससे उबरकर काम में जुट गए।
1. लेखक के लिए कौन-सा काल कठिनाई भरा था और क्यों?
2. लेखक किन-किनकी संगत में था?
3. लेखक को किस परिस्थिति को आत्मसात् करना था?


1. लेखक के लिए 1947-48 का काल महत्वपूर्ण होते हुए भी कठिनाइयों से भरा काल था। पहले तो उसकी माँ की मृत्यु हुई। तब तक पिताजी उसके पास थे। वे मंडला लौट गए। 1948 में उनकी भी मृत्यु हो गई। उस समय लेखक केवल 25 वर्ष का था। उस पर अचानक जिम्मेदारियों का बोझ आ पड़ा था।
2. उस समय लेखक कवियों, चित्रकारों, लेखकों आदि कलाकारों कीर संगत में था। तब उन्हें लगता था कि वे भारी से भारी काम कर सकते हैं, अत: वे सभी अपने-अपने क्षेत्रों में बढ़िया से बढिया काम करने में जुट गए।
3. 1947 में देश का विभाजन हुआ। 1948 में महात्मा गाँधी की हत्या हो गई। ये सभी घटनाएँ अत्यंत क्रुर थीं। लेखक के माता-माता की मृत्यु भी क्रुर घटनाएँ थीं। लेखक को इन सभी क्रुर अनुभवों को आत्मसात् करना था। वह परिस्थिति के अनुसार काम करने में जुट गया।

289 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:
यह सितंबर, 1943 की बात है। मैंने अमरावती के गवर्नमेंट नॉर्मल स्कूल से त्यागपत्र दे दिया। जब तक मैं मुंबई पहुंचा तब तक बे. वे. स्कूल में दाखिला बंद हो चुका था। दाखिला हो भी जाता तो उपस्थिति का प्रतिशत पूरा न हो पाता। छात्रवृत्ति वापस ले ली गई। सरकार ने मुझे अकोला में ड्राइंग अध्यापक की नौकरी देने की पेशकश की। मैंने तय किया कि मैं लौटूंगा नहीं, बंबई में ही अध्ययन करूंगा। मुझे शहर पसंद आया, वातावरण पसंद आया, गैलरियाँ और शहरों में अपने पहले मित्र पसंद आए। और भी अच्छी बात यह हुई कि मुझे एक्सप्रेस ब्लॉक स्टूडियो में डिजाइनर की नौकरी मिल गई। यह स्टूडियो फीरोजशाह मेहता रोड पर था। एक बार फिर कड़ी मेहनत का दौर चला। करीब साल-भर में ही स्टूडियो के मालिक श्री जलील और मैनेजर श्री हुसैन ने मुझे मुख्य डिजाइनर बना दिया। सुबह दस बजे से शाम छह बजे तक मैं दफ्तर में काम करता। फिर मैं अध्ययन के लिए मोहन आर्ट क्लब जाता।
1. लेखक कह, किसमें दाखिला लेने से वंचित रह गया?
2. लेखक ने क्या निश्चय किया?
3. बंबई में उसे कहाँ ठिकाना मिला?


1. लेखक को 1943 ई. में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा बंबई के जे. जे. स्कूल ऑफ दि? में दाखिले के लिए छात्रवृत्ति मंजूर की गई। उस समय लेखक अमरावती के एक गवर्नमेंट नार्मल स्कूल में अध्यापक था। वह वहाँ से त्यागपत्र देकर जब बंबई (मुंबई) पहुँचा तब तक वहाँ दाखिला बंद हो चुका था। यदि किसी प्रकार दाखिला हो भी जाता तो उपस्थिति का प्रतिशत कम रह जाता। इस प्रकार लेखक वहाँ दाखिले से वंचित रह गया।
2. लेखक ने बंबई में रहकर ही संघर्ष करने का निश्चय किया। उसे बंबई शहर पसंद आ गया था, वहाँ का वातावरण, वहाँ की गैलरियाँ और मित्र पसंद आए। अत: उसने अकोला में प्रस्तावित ड्राइंग अध्यापक की नौकरी करना अस्वीकार करके बंबई में ही रहना तय किया।
3. बंबई अब मुंबई में लेखक को एक्सप्रेस ब्लॉक स्टूडियो में डिजाइनर की नौकरी भी मिल गई। यह सृष्टियों फीरोजशाह मेहता रोड पर था। लेखक का संघर्ष काल प्रारंभ हो गया। उसकी मेहनत को देखकर मालिक श्री जलील और मैनेजर श्री हुसैन ने उन्हें मुख्य डिजाइनर बना दिया। अब वह दिनभर दफ्तर में काम करता और रात को अध्ययन के लिए मोहन आर्ट क्लब जाता था। इस प्रकार उसे बंबई में ठिकाना मिल गया।

1669 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:- 
मैं अपने कुटुंब के युवा लोगों से कहता रहता हूं कि तुम्हें सब कुछ मिल सकता है-बस, तुम्हें मेहनत करनी होगी। चित्रकला व्यवसाय नहीं, अंतरात्मा की पुकार है। इसे अपना सर्वस्व देकर ही कुछ ठोस परिणाम मिल पाते हैं। केवल बहरा जाफरी को कार्य करने की ऐसी लगन मिली। वह पूरे समर्पण से दमोह शहर के आसपास के ग्रामीणों के साथ काम करती हैं। कल मैंने उन्हें फोन किया-यह जानने के लिए कि वह दमोह में क्या कर रही हैं। उन्हें बड़ी खुशी हुई कि मुझे सूर्यप्रकाश (उस ग्रामीण स्त्री का पति, जो अपने पति का नाम नहीं ले रही थी) का किस्सा याद है। मैंने धृष्टता से उन्हें बताया कि ‘बिन मांगे मोती मिले, मांगे मिले न भीख।’ मेरे मन में शायद युवा मित्रों को यह संदेश देने की कामना है कि कुछ घटने के इंतजार में हाथ पर हाथ ध रे न बैठे रहो-खुद कुछ करो। जरा देखिए, अच्छे-खासे संपन्न परिवारों के बच्चे काम नहीं कर रहे, जबकि उनमें तमाम संभावनाएं हैं। और यहाँ हम बेचैनी से भरे, काम किए जाते हैं।
1. लेखक युवा लोगों से क्या कहना चाहता है?
2. लेखक को मनचाही लगन किसमें मिली?
3. लेखक के मन में युवा मित्रों को क्या सदेश देने की कामना है?


1. लेखक युवा लोगों से यह कहना चाहता है कि मेहनत करने से उन्हें सब कुछ मिल सकता है। चित्रकला को व्यवसाय न मानकर अंतरात्मा की पुकार मानो। इसके लिए अपना सर्वस्व देना होगा तभी ठोस परिणाम मिल सकते हैं।
2. लेखक को मनचाही लगन केवल जहरा जाफरी में मिली। उसमें कार्य करने की लगन थी। वह पूरे समर्पण भाव से दमोह शहर के आसपास के ग्रामीणों के साथ काम करती थी।
3. लेखक के मन में अपने युवा मित्रों को यह संदेश देने की कामना है कि कुछ घटने की प्रतीक्षा मत करो। हाथ पर हाथ रखे मत बैठे रहो। खुद कुछ करो। अच्छे संपन्न घरों के परिवारों के बच्चों को भी काम करना चाहिए, जो कि वे नहीं कर रहे हैं। उनमें काफी संभावनाएँ छिपी हैं।

468 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:- 
श्रीनगर की इसी यात्रा में मेरी भेंट प्रख्यात फ्रेच फोटोग्राफर हेनरी कार्तिए-ब्रेसौं से हुई। मेरे चित्र देखने के बाद उन्होंने जो टिप्पणी की वह मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण रही है। उन्होंने कहा “तुम प्रतिभाशाली हो, लेकिन प्रतिभाशाली युवा चित्रकारों को लेकर मैं संदेहशील हूं। तुम्हारे चित्रों में रंग है, भावना है, लेकिन रचना नहीं है। तुम्हें मालूम होना चाहिए कि चित्र इमारत की ही तरह बनाया जाता है-आधार, नींव, दीवारें, बीम, छत और तब जाकर वह टिकता है। मैं कहूंगा कि तुम सेजाँ का काम ध्यान से देखो।” इन टिप्पणियों का मुझ पर गहरा प्रभाव रहा। बंबई लौटकर मैंने फ्रेंच सीखने के लिए अलयांस फ्रेंच में दाखिला से लिया। फ्रांसे पेटिंग में मेरी खासी रुचि थी, लेकिन मैं समझना चाहता था कि चित्र में रचना या बनावट वास्तव में क्या होगी।
1. श्रीनगर में लेखक की भेट किससे हुई? इसका उनके लिए क्या महत्व था?
2. फ्रेंच फोटोग्राफर ने क्या टिप्पणी की?
3. इस टिप्पणी का लेखक पर क्या प्रभाव पड़ा?


1. श्रीनगर में लेखक की भेंट प्रसिद्ध फोटोग्राफर हेनरी कातिए ब्रेसाँ से हुई। उन्होंने लेखक के बनाए चित्र देखे और उन पर टिप्पणी की। यह टिप्पणी लेखक के लिए बहुत महत्वपूर्ण रही।
2. फ्रेंच फोटोग्राफर ने लेखक के चित्र देखकर यह टिप्पणी की कि तुम प्रतिभाशाली तो हो, पर मैं युवा चित्रकारों को लेकर संदेहशील हूँ। तुम्हारे चित्रों में रंग और भावना तो है पर उनमें रचना नहीं है। तुम्हें इमारत का चित्र बनाते समय उसके विभिन्न अंगों की जानकारी होनी चाहिए। अभी तुम्हें फ्रेंच चित्रकार सेजाँ का काम देखना चाहिए, इससे तुम्हारा ज्ञान बढ़ेगा।
3. इस टिप्पणी का लेखक पर गहरा प्रभाव पड़ा। उसने बंबई लौटकर फ्रेंच सीखने की व्यवस्था की अब फ्रेंच पेटिग में उसकी काफी रुचि हो गई थी। वह चित्र में रचना या बनावट के बारे में ज्यादा जानना चाहता था।

371 Views

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिये:- 
उन्होंने मुझे ऑर्ट डिपार्टमेंट में कमरा दे दिया। मैं फर्श पर सोता। वे मुझे रात ग्यारह-बारह बजे तक गलियों के चित्र या और तरह-तरह के स्केच बनाते देखते। कभी-कभी वे कहते कि तुम बहुत देर तक काम करते रह गए, अब सो जाओ। कुछ महीने बाद उन्होंने मुझे एक बहुत शानदार ठिकाना देने की पेशकश की-उनके चचेरे भाई के छठी मंजिल के फ्लैट का एक कमरा। उसमें दो पलंग पड़े थे। उनकी यौवना यह थी कि अगर मैं उनके यहां काम करता रहा तो मुझे कला विभाग का प्रमुख बना दिया जाए। मैं बेकन सर्कल का सात रास्ते वाला घर और उसका गलीज वातावरण छोड्कर नए ठिकाने पर आ गया और पूरी तरह अपने काम में डूब गया। इसका परिणाम यह हुआ कि चार बरस में, 1948 में, बॉम्बे ऑर्ट्स सोसाइटी का स्वर्णपदक मुझे मिला। इस सम्मान को पाने वाला मैं सबसे कम आयु का कलाकार था। दो बरस बाद मुझे फ्रांस सरकार की छात्रवृत्ति मिल गई।
1. लेखक को क्या समस्या आई और उसका क्या हल निकला?
2. बाद में लेखक को कहाँ जगह मिली?
3. 1948 में क्या हुआ?


1.  पहले लेखक एक टैक्सी ड्राइवर के ठिकाने पर सोता था, पर वहाँ एक पुलिस केस हो जाने के कारण रहना कठिन हो गया। लेखक के मालिक ने उन्हें आर्ट डिपार्टमेंट में एक कमरा दे दिया। वह फर्श पर सोने लगा। इस प्रकार उसके सोने और रहने की समस्या का हल निकल आया।
2. बाद में मालिक ने लेखक के कठिन परिश्रम से प्रभावित होकर उसे एक शानदार ठिकाना देने की पेशकश की। वे उसे कला विभाग का प्रमुख बना देना चाहते थे।
तब लेखक जेकब सर्कल का सात रास्ते वाला घर और उसका गलीज वातावरण छोडकर नए ठिकाने पर आ गया और पूरी तरह से अपने काम में डूब गया।
3. 1948 में लेखक को बॉम्बे आर्ट्स सोसाइटी का स्वर्णपदक मिला। इस सम्मान को पाने वाला वह सबसे कम आयु का कलाकार था। इसके दो वर्ष बाद उसे फ्रांस सरकार की छात्रवृत्ति भी मिल गई।

434 Views