zigya tab

किसान सामान्यत: भारतमाता का क्या अर्थ लेते थे?


किसान सामान्यत: भारतामाता का अर्थ धरती से लेते थे। वे धरती को ही भारतमाता समझते थे। वैसे स्पष्ट रूप से वे भारतमाता का अर्थ बता नहीं पाते थे।

319 Views

दुनिया के बारे में किसानों को बताना नेहरू बी के लिए क्यों आसान था?


दुनिया के बारे में किसानों को बताना इसलिए आसान था क्योंकि वे पुराने महाकाव्यों और पुराणों की कथा-कहानियों से भली- भाँति परिचित थे। इसी से नेहरू जी ने देश की कल्पना करा दी। कुछ ऐसे लोग भी मिल जाते जिन्होंने बड़े-बड़े तीर्थों की यात्रा कर रखी थी, जो हिन्दुस्तान के चारों कोनों पर हैं। उन्हें कुछ पुराने सिपाही भी मिल जाते थे, जिन्होंने बड़ी जग या धावों में विदेशी नौकरियाँ की थीं। सन् 1930 के बाद जो आर्थिक मंदी पैदा हुई थी, उसकी वजह से दूसरे मुल्कों के बारे में नेहरू जी के हवाले उनकी समझ में आ जाते थे।

457 Views

नेहरू जी भारत के सभी किसानों से कौन-सा प्रश्न बार-बार करते थे?


नेहरू जी भारत के सभी किसानों से यह प्रश्न बार-बार करते थे कि वे ‘भारतमाता की जय’ से क्या समझते हैं? यह भारतामा कौन है? जब वे धरती को भारतमाता बताते तो नेहरूजी उनसे प्रश्न करते कि कौन-सी धरती? खास उनके गाँव की धरती या जिले या सूबे की या सारे हिन्दुस्तान की, धरती से उनका मतलब क्या है? वे इसी प्रकार के प्रश्न बार-बार किसानों से करते रहते थे।

879 Views

भारत की चर्चा नेहरू कम और किससे करते थे?


नेहरू जी जब एक जलसे से दूसरे जलसे में जाते थे और इस तरह चक्कर काटते रहते थे तभी वे इन जलसों में श्रोताओं के सामने अपने हिन्दुस्तान या भारत की चर्चा करते थे। वे बताते थे कि ‘भारत’ शब्द संस्कृत का है और इस जाति के परंपरागत संस्थापक के नाम से निकला है। वे किसानों के नजरिए को बदलने और उसे व्यापक बनाने की कोशिश करते थे।

1305 Views

भारत माता के प्रति नेहरू जी की क्या अवधारणा थी?

भारतमाता के प्रति नेहरूजी की अवधारणा यह थी कि हिन्दुस्तान के नदी और पहाड़, जंगल और खेत तो भारतामाता के अंग हैं ही, इसके साथ-साथ हिन्दुस्तान के लोग, जो सारे देश में फैले हुए हैं, ये ही लोग असल में भारतामाता हैं।
‘भारत माता की जय’ से मतलब इन्हीं लोगों की जय से है।

408 Views