Zigya Logo

રિસોર્સ સેન્ટર
વિનામૂલ્યે હંમેશા

Good Afternoon
14:29 pm
ગુજરાત બોર્ડ રિસોર્સ સેન્ટર
ધોરણ 8 - 12 માટે

ગુજરાત બોર્ડના અભ્યાસક્રમ મુજબ ગુજરાતી માધ્યમનાં ધોરણ 8 થી 12 નાં વિદ્યાર્થીઓના અભ્યાસ માટે Zigya ગતેત્યાં અને હરહંમેશ આપણી સાથે છે. અહીં આપ મનપસંદ પ્રશ્નો બુકમાર્ક પણ કરી શકશો. શિક્ષકો અને ટ્યુશન ક્લાસ સંચાલકો માટે એસાઇમૅન્ટ, ટેસ્ટ કે પ્રૅક્ટીસ પેપર ત્વરિત બનાવવા માટે Zigya એ આદર્શ સ્થળ છે. જો તમે Google માં ગુજરાતીમાં પ્રશ્ન ટાઇપ કરી સર્ચ કરો તો Zigya ત્યાં પણ ઉત્તર સાથે હાજર રહેશે.

  • Class 8
    Class 8
    ગણિત | ગુજરાતી | વિજ્ઞાન્ | સંસ્કૃત | સામાજીક વિજ્ઞાન્ | હીન્દી
    Zig In
  • Class 9
    Class 9
    ગણિત | ગુજરાતી | વિજ્ઞાન્ | સંસ્કૃત | સામાજીક વિજ્ઞાન્ | હીન્દી
    Zig In
  • Class 10
    Class 10
    ગણિત | ગુજરાતી | વિજ્ઞાન્ | સામાજીક વિજ્ઞાન્
    Zig In
  • Class 11
    Class 11
    અર્થશાસ્ત્ર | કમ્પ્યુટર પરિચય | ગણિત | ગુજરાતી | જીવવિજ્ઞાન | ભૌતિક વિજ્ઞાન | મનોવિજ્ઞાન | રસાયણવિજ્ઞાન | સમાજશાસ્ત્ર | સંસ્કૃત
    Zig In
  • Class 12
    Class 12
    મનોવિજ્ઞાન | રસાયણવિજ્ઞાન | સમાજશાસ્ત્ર | સંસ્કૃત | અર્થશાસ્ત્ર | કમ્પ્યુટર પરિચય | ગણિત | ગુજરાતી | જીવવિજ્ઞાન | ભૌતિક વિજ્ઞાન
    Zig In
અગાઉના વર્ષોના પેપર
અંતિમ તૈયારી માટે
તમારા પૂરોગામીઓએ જે પ્રશ્નોનો પરીક્ષામાં સામનો કરેલો તે તમારા માટે અનુભવ બને છે. તેની ખાસ તૈયારી તમારા માટે આવશ્યક છે. તમે અહીં દરેક પ્રકરણ સાથે તેનો અભ્યાસ કરી શકો છો. જો એમ કરવામાં ચુકી જવાય તો વિષયવાર છેલ્લા દસ વર્ષના ઉત્તરસહિત પેપરો તમારા માટે હાજર છે. વળી, જો તમે ઇચ્છો તો તેને ડાઉનલોડ પણ કરી શકશો.
NEET રીસોર્સ સેન્ટર
સ્પર્ધામાં આગળ રહેવા માટે
સ્પર્ધાત્મક પરીક્ષાની અંતિમ તૈયારી અગાઉ પુનરાવર્તન અનિવાર્ય છે. અહીં આપ પ્રકરણ અનુસાર દરેક વિષયનો મહાવરો કરી શકો છો. સાથે અગાઉના વર્ષોનાં ઉત્તર સહિત પેપરો તમારી તૈયારીમાં મદદરૂપ થશે. પરીક્ષાનું માળખું અને પદ્ધતિની જાણકારી મળશે. ટેસ્ટ ફૉર્મેટમાં તમે તમારી તૈયારી સતત ચકાસતા રહી ગુણવત્તા સુધારી શકો છો.
  • Study
    Study
    Study for NEET in Gujarati language.
    Zig In
  • Test yourself
    Test Yourself - Gujarati
    NEET test in Gujarati language.
    Zig In
JEE રિસોર્સ સેન્ટર
હરોળમાં આગળ રહેવા માટે
Zigya સાથે અભ્યાસ કરતાં આપ વર્ષ દરમિયાન કે વર્ષાન્તે જ્યારે ઇચ્છો ત્યારે અભ્યાસક્રમ મુજબનું સ્વમુલ્યાંકન કરી શકો છો. પ્રકરણ કે વિષય મુજબ ટેસ્ટ આપી તમારી તૈયારીને ધારદાર બનાવો. અહીં અગાઉના વર્ષોનાં પેપર ઉત્તર સહિત તમને વધુ અસરકારક તૈયારીમાં સાથ આપવા પ્રસ્તુત છે. સતત પ્રૅક્ટીસ કરો અને આગળ વધો.
  • Study
    Study
    Study for JEE in Gujarati language.
    Zig In
  • Test yourself
    Test Yourself
    JEE test in English and Gujarati language.
    Zig In
GUJCET 2017
સ્પર્ધાત્મક તૈયારી માટે
ચાલુ વર્ષે કેન્દ્રીય માધ્યમિક શિક્ષણ બોર્ડ (CBSE) દ્વારા યોજાનાર NEET એટલે કે NATIONAL ELIGIBILITY CUM ENTRANCE TEST (UG) – 2017 સૌ પ્રથમ વખત અન્ય ભાષાઓની સાથે ગુજરાતીમાં પણ યોજાશે. આ પરિક્ષા MBBS/BDS અભ્યાસક્રમોમાં પ્રવેશ માટેની કેન્દ્રીયકૃત પરિક્ષા છે. ગુજરાતમાં આ અગાઉ મેડીકલ અને પેરામેડીકલ અભ્યાસક્રમોમાં પ્રવેશ માટે GUJCET પરિક્ષા યોજાતી હતી તેને સ્થાને ચાલુ વર્ષથી NEET પરિક્ષાના મેરીટ આધારે ઉપરોક્ત અભ્યાસક્રમોમાં પ્રવેશ આપવામાં આવનાર છે. ગુજરાતની તમામ સરકારી અને ખાનગી મેડીકલ/ડેન્ટલ કોલેજો તેમજ પેરામેડીકલ અભ્યાસક્રમોમાં પ્રવેશ માટે વિદ્યાર્થીઓએ હવે NEET પરિક્ષાના મેરીટ આધારે પ્રવેશ મેળવવાનો થતો હોઈ zigya દ્વારા ગુજરાતી માધ્યમમાં ગુજરાત બોર્ડે તૈયાર કરેલા પુસ્તકો આધારે આ test તૈયાર કરવામાં આવી છે જેનો લગતા વળગતા સહુ વિદ્યાર્થીઓ વધુમાં વધુ લાભ લે તેવી અપેક્ષા છે.
  • Test yourself
    Test Yourself
    GUJCET test in Gujarati language.
    Zig In
એસાઈનમૅન્ટ બનાવવા માટે
શિક્ષકોની ખુશી માટે
Zigya Assignments એ વિદ્યાર્થીઓ માટે ત્વરિત અને સાહજિક રીતે એસાઇમૅન્ટ કે પ્રેક્ટીસ પેપર બનાવવા માટેનું આદર્શ સ્થળ છે. અહીં આપ ખાલી જગ્યા, MCQ, ખરાં-ખોટાં, લાંબા પ્રશ્નો, ટુંકા પ્રશ્નો જેવાં જુદાં જુદાં પ્રશ્નોના પ્રકાર એક સાથે સમાવવાની સગવડ મેળવી શકો છો.
બુક સ્ટૉર
ખાસ તમારા માટે
જ્યારે તમો Zigya સાથે અભ્યાસ કરતા હોવ ત્યારે, તમારા અભ્યાસક્રમનાં પ્રકરણો કે પુસ્તકો જોવાં બીજે જવાની જરૂર નથી. વળી અહીં જુદાં જુદાં બોર્ડનાં પુસ્તકો કે પ્રકરણોની સરખામણી પણ કરી શકો છો. તેને ડાઉનલોડ પણ કરી શકો છો. અમારો બુક સ્ટૉર Zigya ના સભ્યોના રસ મુજબ સતત ઉમેરાતી માહિતીથી સમૃદ્ધ બનતો રહેશે. આજે જ મુલાકાત લો.
Zigya
Education Company

Zigya એ સંસ્કૃત શબ્દ “જીજ્ઞાસા” ઉપરથી લેવાયેલ શબ્દ છે અને તે કંપનીનો પાયો છે. જીજ્ઞાસાએ અભ્યાસનો આધાર છે. તેથી જ Zigya એ વિશિષ્ટ અભિગમ અપનાવ્યો છે. જેમાં ભણાવવાનું નહી પણ શિખવાનું અથવા જાણવાનું મહત્વ છે.

Zigya એવી રીતે બનાવવામાં આવ્યું છે કે વિદ્યાર્થી જ્યારે જરૂર હોય ત્યારે તેના મનમાં ઉદભવતાં પ્રશ્નોના જવાબ સ્વત: મેળવી શકે. જેથી તેની જીજ્ઞાશા સંતોષાય. Zigya નો પ્રયત્ન શૈક્ષણિક જગતમાં એવું પ્લૅટફૉમ ઉભું કરવાનો છે, કે જ્યાં લોકો પારસ્પરિક આપ-લેનો લાભ મેળવી સમૃદ્ધ થાય.

Zigya નો ઉદ્દેશ દરેકના માટે ઉપયોગી એવું Resource Centre પુરું પાડવાનો છે, જ્યાં વિદ્યાર્થી જાતે પોતાની પદ્ધતિથી ભણે. જ્યાં જરૂરિયાત વાળા વિદ્યાર્થી અને કેળવણીકારોની જરૂરિયાત સંતોષાય એવું તદ્દ્ન વિનામૂલ્યે અને સાર્વત્રિક શિક્ષણનું Resource Centre પુરું પાડવાનો Zigya નો ધ્યેય છે.

Recent Posts

औपचारिक पत्र और अनौपचारिक पत्र लेखन - एनसीईआरटी Hindi NCERT Solutions
औपचारिक पत्र और अनौपचारिक पत्र लेखन - एनसीईआरटी Hindi NCERT Solutions

औपचारिक पत्र और अनौपचारिक पत्र पत्र लेखन - एनसीईआरटी Hindi NCERT Solutions

पत्र के माध्यम से हम वैयक्तिक विचार, चिंतन, अनुभूति और संवेदनाओं की अभिव्यक्ति करते हैं,

कार्यालय की औपचारिकताओं के संदर्भ में तथा पत्र-पत्रिकाओं में अपनी समस्याओं को व्यक्त करवाने में भी पत्र-लेखन का विशेष महत्व हैं।

पत्र लेखन एक प्रभावशाली कला है, जो दूसरों को प्रभावित ही नहीं करती है, अपितु उद्देश्य-पूर्ति में भी सहायक होती है। पत्र लिखते समय आप को यह ध्यान रखना है की जो पत्र आप लिख रहे हैं पढ़ने वाले को कितना समझ में आएगा ।

पत्र की विषय-वस्तु, भाषा तथा शैली, लेखक की योग्यता, मनःस्थिति, वैचारिकता एवं संवेदनात्मकता को प्रकट करती है। अवसर के अनुकूल ही पत्रों का स्वरूप, भाषा और विषय निर्धारित होते हैं। अतः पत्र व्यक्तित्व की अभिव्यंजना करने में समर्थ होते हैं।

सरल भाषा का उपयोग हमेशा अच्छा माना जाता हैं।


पत्र लेखन को दो वर्गो में विभाजित किया जाता है -  Hindi NCERT Solution Letter Writing 

औपचारिक पत्र (Formal Letter)

अनौपचारिक पत्र (Informal Letter)


पत्र चाहे औपचारिक हो या अनौपचारिक, सामान्यतः पत्र के निम्नलिखित अंग होते हैं, जैसे-

  • पता और दिनांक
  • संबोधन तथा अभिवादन शब्दावली का प्रयोग
  • पत्र की सामग्री
  • पता की समाप्ति, स्वनिर्देश और हस्ताक्षर

औपचारिक पत्र: Hindi NCERT Solution

इस प्रकार के पत्र संस्था के अधिकारी एवं कार्यालय के अधिकारी को लिखा जाता हैं। औपचारिक पत्र लेखन में मुख्यतः संदेश, सूचना एवं तथ्यों का ही अधिक महत्व दिया जाता हैं।

औपचारिक पत्र लेखन में

  • शीर्ष भाग में पत्र-प्रेक्षक का पता बायीं ओर लिखा जाता है तथा पत्र-प्रेषक अपना नाम के नीचे स्वनिर्देशि के बाद लिखते हैं।
  • मध्य भाग में संदेश का विवरण होता हैं।
  • अंतिम भाग आभार सूचक वाक्य जैसे धन्यवाद आदि का प्रयोग किया जाता हैं।

जब हम किसी को पत्र लिखना (patra lekhan) शुरू करते हैं तो उस व्यक्ति के लिए किसी न किसी संबोधन शब्द का प्रयोग किया जाता है। जैसे- पूज्य/आदरणीय/पूजनीय/श्रद्धेय/प्रिय/प्रियवर/मान्यवर

औपचारिक स्थिति में-

मान्यवर/प्रिय महोदय/महोदया प्रिय श्री / श्रीमती / सुश्री / नाम या उपनाम प्रिय - नाम - जी आदि।

औपचारिक पत्र - पत्र लेखन नमूना हिन्दी सरकारी पत्र लेखन में निवास प्रमाण पत्र हेतु आवेदन पत्र, आय प्रमाण पत्र हेतु आवेदन पत्र, जन्म प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन, और शासकीय पत्र लेखन आदि शामिल है ! अक्सर लोगों का यह प्रश्न होता है कि आवेदन पत्र कैसे लिखे ।


अनौपचारिक पत्र (Informal Letter)

अनौपचारिक पत्रों में महोदय / महोदय संबोधन शब्द के बाद अल्पविराम का प्रयोग नहीं किया जाता है, क्योंकि अगली पंक्ति में हमें अभिवादन के लिए कोई शब्द नहीं देना होता हैं।

इस प्रकार के पत्र अपने परिवार के लोग मित्र एवं निकट संबंधियों को लिखे जाते हैं। इस तरह के पत्र लेखन में व्यक्तिगत सुख-दुख का ब्योरा एवं विवरण के साथ व्यक्तिगत संबंध को उल्लेख किया जाता हैं।

अनौपचारिक पत्रों में अपने से बड़े के लिए नमस्कार, नमस्ते, प्रमाण जैसे अभिवादनों का प्रयोग होता हैं।

पत्र लेखन प्रारूप - ध्यान देना अति आवश्यक है जो आपके पत्र लेखन को आसान बना देता है वह कैसे आप को उदाहरण देकर मैं समझाता हूं !

अनौपचारिक पत्र लेखन में

  • शीर्ष भाग में पता, दिनांक, संबोधन और प्रशस्ति आते हैं।
  • मध्य भाग में संदेश व कथा का विवरण होता हैं।
  • अंतिम भाग आभार सूचक वाक्य जैसे आप का, प्रणाम, धन्यवाद आदि का प्रयोग किया जाता हैं।

Hindi NCERT Solution class 10

कुँवर नारायण - कवि परिचय | कविता के बहाने | बात सीधी पर सप्रसंग व्याख्या | कविता-सार
कुँवर नारायण - कवि परिचय | कविता के बहाने | बात सीधी पर सप्रसंग व्याख्या | कविता-सार

कुँवर नारायण - कवि परिचय

आधुनिक हिंदी कविता के एक सशक्त हस्ताक्षर हैं। उनका जन्म 19 सितंबर, 1927 ई. में फैजाबाद (उत्तर प्रदेश) में हुआ। प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा घर पर ही हुई। लखनऊ विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में एम. ए. किया। आरभ से ही उन्हें घूमने-फिरने का शौक था। उन्होंने चैकोस्लोवाकिया पोलैंड, रूस और चीन आदि देशों की यात्रा की और विभिन्न प्रकार के अनुभव प्राप्त किए। कुँवर नारायण ने कविता लेखन का आरंभ अंग्रेजी से किया किंतु शीघ्र ही ये हिंदी की ओर उन्मुख हो गए और नियमित रूप से हिंदी में लिखने लगे। कुँवर नारायण लंबे ममय तक ‘युग चेतना’ रात्रिका से जुड़े रहे पर पत्रिका के बंद हो जाने पर वे अपने निजी व्यवसाय (मोटर उद्योग) में व्यस्त हो गए।

कुँवर नारायण के  काव्य-संग्रह -

कविता संग्रह - चक्रव्यूह,  तीसरा सप्तक , परिवेश : हम-तुम,  अपने सामने,  कोई दूसरा नहीं,  इन दिनो, कविता के बहाने, बात सीधी थी पर। खंड काव्य - आत्मजयी और वाजश्रवा के बहाने। कहानी संग्रह - आकारों के आसपास। समीक्षा विचार - आज और आज से पहले, मेरे साक्षात्कार, साहित्य के कुछ अन्तर्विषयक संदर्भ । संकलन - कुंवर नारायण-संसार(चुने हुए लेखों का संग्रह) ,कुँवर नारायण उपस्थिति (चुने हुए लेखों का संग्रह), कुँवर नारायण चुनी हुई कविताएँ , कुँवर नारायण- प्रतिनिधि कविताएँ ।

NCERT Solutions for class 12 Hindi Core 


भाषा-शैली:

कुँवर नारायण की भाषा सीधी, सरल और चुटीली है। उनकी काव्य--भाषा में परपरागत छंद का आग्रह न होकर एक आतरिक लय और गति है, जो उसे काव्यात्मक गीतिमयता प्रदान करती है। कुँवर नारायण के काव्य में बिंब, प्रतीक और अलंकार आदि का प्रयोग अधिक मात्रा में हुआ है। उन्होंने दैनिक जीवन से ही बिंबो को ग्रहण किया है।

साहित्यिक परिचय/ सम्मान

कुँवर नारायण को हिंदी संसार में पर्याप्त सम्मान मिला। उन्हें व्यास सम्मान, भारतीय भाषा परिषद् पुरस्कार तथा साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। कुँवर नारायण बहुभाषाविद् हैं। वे एक गंभीर अध्येता हैं। उनके ‘आत्मजयी’ खंड काव्य का अनुवाद इतालवी भाषा में हो चुका है। वे एक कुशल पत्रकार के रूप में ‘युग चेतना’ ‘नया प्रतीक’ तथा ‘छायानट’ से जुड़े रहे हैं। वे ‘भारतेंदु नाट्य अकादमी’ के अध्यक्ष भी रहे हैं। 1973 में प्रेमंचद पुरस्कार 1982 में तुलसी पुरस्कार तथा केरल का ‘कुमारन आरन अकादमी’ भी प्राप्त कर चुके हैं।

NCERT Solutions for class 12 Hindi Core कुँवर नारायण  

कविता के बहाने

कविता एक उड़ान है चिड़िया के बहाने

कविता की उड़ान भला चिड़िया क्या जाने

बाहर भीतर

इस घर, उस घर

कविता के पंख लगा उड़ने के माने

चिड़िया क्या जाने?

विता एक खिलना है फूलों के बहाने

कविता का खिलना भला फूल क्या जाने!

बाहर भीतर

इस घर, उस घर

बिना मुरझाए महकने के माने

फूल क्या जाने?

कविता एक खेल है बच्चों के बहाने

बाहर भीतर

यह घर, वह घर

सब घर एक कर देने के माने

बच्चा ही जाने!


बात सीधी थी पर - कविता 

बात सीधी थी पर एक बार

भाषा के चक्कर में

ज़रा टेढ़ी फँस गई ।

उसे पाने की कोशिश में

भाषा को उलटा पलटा

तोड़ा मरोड़ा

घुमाया फिराया

कि बात या तो बने

या फिर भाषा से बाहर आये-

लेकिन इससे भाषा के साथ साथ

बात और भी पेचीदा होती चली गई ।

सारी मुश्किल को धैर्य से समझे बिना

मैं पेंच को खोलने के बजाय

उसे बेतरह कसता चला जा रहा था

क्यों कि इस करतब पर मुझे

साफ़ सुनायी दे रही थी

तमाशाबीनों की शाबाशी और वाह वाह ।

आख़िरकार वही हुआ जिसका मुझे डर था –

ज़ोर ज़बरदस्ती से

बात की चूड़ी मर गई

और वह भाषा में बेकार घूमने लगी ।

हार कर मैंने उसे कील की तरह

उसी जगह ठोंक दिया ।

ऊपर से ठीकठाक

पर अन्दर से

न तो उसमें कसाव था

न ताक़त ।

बात ने, जो एक शरारती बच्चे की तरह

मुझसे खेल रही थी,

मुझे पसीना पोंछती देख कर पूछा –

“क्या तुमने भाषा को

सहूलियत से बरतना कभी नहीं सीखा ?”


NCERT Solutions for class 12 Hindi Core कुँवर नारायण  

बात सीधी थी पर व्याख्या | कविता-सार 

कुँवर नारायण की यह कविता ‘कोई दूसरा नहीं’ संग्रह मे संकलित है। इसमें भाषा की सहजता की बात कही गई है। हर बात के लिए कुछ खास शब्द नियत होते हैं। यह स्थिति कुछ ऐसी ही है जैसे हर पेंच के लिए! एक निश्चित खाँचा होता है। हम अनेक शब्दों को एक -दूसरे के पर्याय के रूप में जानते रहे हैं, पर उन सबके अपने विशिष्ट अर्थ भी होते हैं। अच्छी बात या अच्छी कविता का बनना सही बात का सही शब्द से जुड़ना होता है। जब ऐसा होता है तब किसी दबाव या अतिरिक्त मेहनत की आवश्यकता नहीं होती। वह सुविधा के साथ हो जाता है।

NCERT Solutions for class 12 Hindi Core 

कविता के बहाने व्याख्या | कविता-सार 

यह कविता कवि के काव्य संग्रह ‘इन दिनों’ से ली गई है। इस कविता में कवि ने बताया है कि आज का समय कविता के अस्तित्व को लेकर आशंकित है। यह शक प्रकट किया जा रहा है कि यांत्रिकता का दबाव कविता का वजूद समाप्त कर देगा। इस कविता में एक ऐसी यात्रा का वर्णन है जो चिड़िया, फूल से लेकर बच्चे तक की यात्रा है। चिड़िया के उड़ान की सीमा है, फूल के खिलने के साथ उसकी परिणति निश्चित है, लेकिन बच्चे के सपने असीम हैं। बच्चों के खेल की कोई सीमा नहीं होती। इसी प्रकार कविता भी शब्दों का खेल है। शब्दों के इस खेल में जड़ चेतन, अतीत, वर्तमान और भविष्य सभी उपकरण मात्र हैं। इससे स्पष्ट है कि जहाँ कहीं रचनात्मक ऊर्जा होगी, वहाँ सीमाओं के बंधन स्वयं टूट जाते हैं। यह सीमा घर की भी हो सकती है भाषा की भी हो सकती है और समय की भी हो सकती है।
आलोक धन्वा - कवि परिचय
आलोक धन्वा - कवि परिचय

आलोक धन्वा का जन्म 1948 ई. में मुंगेर (बिहार) में हुआ। सातवें-आठवें दशक के जनांदोलनों से जुड़े हुए कवि आलोक धन्वा ने बहुत छोटी अवस्था में अपनी गिनी-चुनी कविताओं से अपार लोकप्रियता अर्जित की। सन् 72-73 में प्रकाशित इनकी आरंभिक कविताएं हिंदी के अनेक गंभीर काव्यप्रेमियों को जबानी याद रही हैं। आलोचकों का तो मानना है कि उनकी कविताओं ने हिंदी कवियों और कविताओं को कितना प्रभावित किया, इसका मूल्यांकन अभी ठीक से हुआ नहीं है।


इतनी व्यापक ख्याति के बावजूद या शायद उसी की वजह से बनी हुई अपेक्षाओं के दबाव के चलते, आलोक धन्वा ने कभी थोक के भाव में लेखन नहीं किया। सन् 72 से लेखन आरंभ करने के बाद उनका पहला और अभी तक का एकमात्र काव्य--संग्रह सन् 98 में प्रकाशित हुआ। काव्य-सग्रह के अलावा वे पिछले दो दशकों से देश के विभिन्न हिस्सों में सांस्कृतिक एवं सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में सक्रिय रहे हैं। उन्होंने जमशेदपुर में अध्ययन-मंडलियों का संचालन किया और रंगकर्म तथा साहित्य पर कई राष्ट्रीय संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में अतिथि व्याख्याता के रूप में भागीदारी की है।


प्रमुख रचनाएँ: पहली कविता ‘जनता का आदमी’, 1972 में प्रकाशित उसके बाद ‘भागी हुई लड़कियाँ’, ब्रूनो की बेटियों से प्रसिद्धि’, ‘दुनिया रोज बनती है’ एकमात्र संग्रह।

प्रमुख सम्मान: राहुल सम्मान, बिहार राष्ट्रभाषा परिषद का साहित्य सम्मान बनारसी प्रसाद भोजपुरी सम्मान।


कविता ‘पतंग’ आलोक धन्वा की एक लंबी कविता है।

उनके रक्तो से ही फूटते हैं पतंग के धागे और हवा की विशाल धाराओं तक उठते चले जाते हैं जन्म से ही कपास वे अपने साथ लाते हैं

धूप गरुड़ की तरह बहुत ऊपर उड़ रही हो या फल की तरह बहुत पास लटक रही हो- हलचल से भरे नींबू की तरह समय हरदम उनकी जीभ पर रस छोड़ता रहता है

तेज़ आँधी आती है और चली जाती है तेज़ बारिश आती है और खो जाती है तेज़ लू आती है और मिट जाती है लेकिन वे लगातार इंतज़ार करते रहते हैं कि कब सूरज कोमल हो कि कब सूरज कोमल हो कि कब सूरज कोमल हो और खुले कि कब दिन सरल हों कि कब दिन इतने सरल हों कि शुरू हो सके पतंग और धागों की इतनी नाज़ुक दुनिया


(दो)

सबसे काली रातें भादों की गयीं सबसे काले मेघ भादों के गये सबसे तेज़ बौछारें भादों की मस्तूतलों को झुकाती, नगाड़ों को गुँजाती डंका पीटती- तेज़ बौछारें कुओं और तलाबों को झुलातीं लालटेनों और मोमबत्तियों को बुझातीं ऐसे अँधेरे में सिर्फ़ दादी ही सुनाती है तब अपनी सबसे लंबी कहानियाँ कड़कती हुई बिजली से तुरत-तुरत जगे उन बच्चोंह को उन डरी हुई चिड़ियों को जो बह रही झाड़ियो से उड़कर अभी-अभी आयी हैं भीगे हुए परों और भीगी हुई चोंचों से टटोलते-टटोलते उन्होंने किस तरह ढूँढ लिया दीवार में एक बड़ा सा सूखा छेद !

चिड़ियाँ बहुत दिनों तक जीवित रह सकती हैं- अगर आप उन्हें मारना बंद कर दें बच्चेप बहुत दिनों तक जीवित रह सकते हैं अगर आप उन्हें मारना बंद कर दें भूख से महामारी से बाढ़ से और गोलियों से मारते हैं आप उन्हें बच्चों को मारने वाले आप लोग ! एक दिन पूरे संसार से बाहर निकाल दिये जायेंगे बच्चों को मारने वाले शासकों ! सावधान ! एक दिन आपको बर्फ़ में फेंक दिया जायेगा जहाँ आप लोग गलते हुए मरेंगे और आपकी बंदूकें भी बर्फ़ में गल जायेंगी


(तीन)

सबसे तेज़ बौछारें गयीं भादों गया सवेरा हुआ ख़रगोश की आँखों जैसा लाल सवेरा शरद आया पुलों को पार करते हुए अपनी नयी चमकीली साइकिल तेज़ चलाते हुए घंटी बजाते हुए ज़ोर-ज़ोर से चमकीले इशारों से बुलाते हुए पतंग उड़ानेवाले बच्चों के झुंड को चमकीले इशारों से बुलाते हुए और आकाश को इतना मुलायम बनाते हुए कि पतंग ऊपर उठ सके- दुनिया की सबसे हलकी और रंगीन चीज़ उड़ सके दुनिया का सबसे पतला काग़ज़ उड़ सके- बाँस की सबसे पतली कमानी उड़ सके- कि शुरू हो सके सीटियों, किलकारियों और तितलियों की इतनी नाज़ुक दुनिया

जन्म से ही वे अपने साथ लाते हैं कपास पृथ्वी घूमती हुई आती है उनके बेचैन पैरों के पास जब वे दौड़ते हैं बेसुध छतों को भी नरम बनाते हुए दिशाओं को मृदंग की तरह बजाते हुए जब वे पेंग भरते हुए चले आते हैं डाल की तरह लचीले वेग से अक्सर छतों के खतरनाक किनारों तक- उस समय गिरने से बचाता है उन्हें सिर्फ़ उनके ही रोमांचित शरीर का संगीत पतंगों की धड़कती ऊचाइयाँ उन्हें थाम लेती हैं महज़ एक धागे के सहारे पतंगों के साथ-साथ वे भी उड़ रहे हैं अपने रंध्रों के सहारे अगर वे कभी गिरते हैं छतों के खतरनाक किनारों से और बच जाते हैं तब तो और भी निडर होकर सुनहले सूरज के सामने आते हैं पृथ्वीन और भी तेज़ घूमती हूई आती है उनके बेचैन पैरों के पास।


कविता ‘पतंग’ सप्रसंग व्याख्या | कविता-सार