Subject

सामाजिक विज्ञान

Class

CBSEH Class 10

Pre Boards

Practice to excel and get familiar with the paper pattern and the type of questions. Check you answers with answer keys provided.

Sample Papers

Download the PDF Sample Papers Free for off line practice and view the Solutions online.

 Multiple Choice QuestionsShort Answer Type

11.

'दबाव-समूहों' का निर्माण कैसे होता है?


'दबाव-समूहों' का निर्माण -
हित समूह अमूमन समाज के किसी खास हिस्से अथवा समूह के हितों को बढ़ावा देने के लिए संगठन बनाकर गतिविधियां करते हैं।

206 Views

12.

'चुनौती' का अर्थ स्पष्ट कीजिए। 


चुनौती का अर्थ -
चुनौती कोई एक समस्या नहीं है। हम आमतौर पर उन्हीं मुश्किलों को चुनौती कहते हैं जो महत्त्वपूर्ण तो है; लेकिन जिन पर जीत हासिल की जा सकती है। यदि किसी मुश्किल के भीतर ऐसी संभावना है कि उस मुश्किल से छुटकारा मिल सके तो उसे हम चुनौती कहते हैं।

498 Views

13.

1919 में प्रस्तावित रॉयल एक्ट के खिलाफ गाँधीजी ने राष्ट्रव्यापी सत्याग्रह आंदोलन चलाने का फैसला क्यों लिया? कोई तीन कारण स्पष्ट कीजिए। 


रॉयल एक्ट के खिलाफ राष्ट्रव्यापी सत्याग्रह -
(i) भारतीय सदस्यों के भारी विरोध के बावजूद इस एक्ट को लेजिस्लेटिव काउन्सिल ने बहुत जल्दबाजी में पारित किया।
(ii) इस क़ानून के जरिए सरकार को राजनीतिक गतिविधियों को कुचलने के लिए असीम अधिकार दिए।
(iii) राजनीतिक कैदियों को दो साल तक बिना मुक़द्द्मा चलाये जेल में बंद रखने का अघिकार दिया गया।

142 Views

14.

फ्रांसीसी क्रान्तिकारियों द्वारा फ्रांसीसी लोगों में सामूहिक पहचान की भावना पैदा करने के लिए उठाए गए किन्हीं तीन कदमों का वर्णन कीजिए।


फ्रांसीसी क्रान्तिकारियों द्वारा फ्रांसीसी लोगों सामूहिक पहचान की भावना -
(i) पितृभूमि और नागरिक जैसे विचारों ने एक संयुक्त समुदाय के विचार पर बल दिया जिसे एक संविधान के अंर्तगत समान अधिकार प्राप्त थे।
(ii) एक नया फ्रांसीसी झंडा-तिरंगा चुना गया जिसने पहले के राष्ट्रध्वज की जगह ले ली।
(iii) एक केंद्रीय शासन व्यवस्था लागू की गयी, जिसने अपने भू भाग में रहने वाले नागरिक के लिए समान क़ानून बनाए।
(iv) आंतरिक आयात-निर्यात शुल्क समाप्त कर दिए गए।
(v) भार तथा नापने की एक समान व्यवस्था लागू की गयी।

157 Views

15.

भारत में उपभोक्ता आंदोलन के प्रारंभ होने के किन्हीं तीन कारणों का विश्लेषण कीजिए।


उपभोक्ता आंदोलन के प्रारम्भ होने के कारण -
(i) उपभोक्ताओं का असंतोष।
(ii) बाजार में उपभोक्ताओं की सुरक्षा के लिए नियम विनियम का न होना।
(iii) व्यापारियों द्वारा अनुचित व्यापार करने में लगे होना।

223 Views

16.

कृषि तथा उद्योगों की पारस्परिक निर्भरता को उदाहरणों द्वारा स्पष्ट कीजिए। 


कृषि और उद्योगों की पारस्परिक निर्भरता -
(i) कृषि आधारित उद्योगों ने कृषि पैदावार बढ़ाने में प्रोत्साहन प्रदान किया है।
(ii) उद्योग कच्चे माल के लिए कृषि पर निर्भर है।
(iii) उद्योगों द्वारा निर्मित उत्पाद जैसे सिंचाई के लिए पंप, उर्वरक, कीटनाशक दवाएं, प्लास्टिक पाइप, मशीनें व कृषि औजार आदि पर किसान निर्भर हैं।
(iv) विनिर्माण उद्योग के विकास तथा स्पर्धा से न केवल कृषि उत्पादन को बढ़ावा मिला है अपितु उत्पादन प्रक्रिया भी सक्षम हुई है।

513 Views

17.

वियतनाम पर फ्रांसीसियों के कब्जे के बाद वियतनामियों की जिंदगी में आए किन्हीं तीन बदलावों का वर्णन कीजिए। 


वियतनामियों के जीवन में आए बदलाव -
(i) जनता का औपनिवेशिक शासकों के साथ जीवन के हर मोर्चे पर संघर्ष।
(ii) सबसे अघिक प्रभाव सैनिक और आर्थिक मामलों पर दिखाई पड़ा।
(iii) वियतनामी संस्कृति को नया रूप देने के लिए फ्रांसीसियों ने सुनियोजित प्रयास किए।
(iv) फ्रांसीसियों और उनके वर्चस्व का अहसास कराने वाली हर चीज के खिलाफ वियतनामी समाज के हर तबके ने जमकर संघर्ष किया। यहीं से वियतनाम में राष्ट्र के बीज पड़े।

107 Views

18.

"बैंक विनियम के सशक्त साधन हैं।" तर्क देकर कथन की पुष्टि कीजिए।


बैंक विनिमय के सशक्त साधन -
(i) मांग जमा भुगतान का व्यापक रूप से स्वीकृति का साधन है।
(ii) मांग जमा मुद्रा का महत्त्वपूर्ण लक्षण प्रदान करती है।
(iii) चेक से भुगतान के लिए भुगतान कर्ता, जिसका किसी बैंक में खाता है, बिना नगदी के उपयोग के भुगतान को सीधे-सीधे संभव बना है।

192 Views

19.

भारत के किसी एक 'दबाव-समूह' का उदहारण दीजिए जो 'राजनीतिक दल' की एक शाखा के रूप में कार्य करता है। 


'राजनीतिक दल' की एक शाखा के रूप में 'दबाव-समूह' -
मजदूर संगठन / छात्र संगठन - आई0एन0टी0यू0पी0सी0, ए0आई0टी0यु0सी0ए0बी0वी0पी, एन0आई0एस0यू0

137 Views

20.

स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान राष्ट्रवाद को साकार करने में लोक कथाओं, गीतों एवं चित्रों आदि के योगदान का मूल्यांकन कीजिए। 


राष्ट्रवाद को साकार करने में लोककथाओं, गीतों एवं चित्रों का योगदान -

(i) इतिहास व साहित्य, लोककथाएं व गीत, चित्र व प्रतीक, सभी ने राष्ट्रवाद को साकार करने में अपना योगदान दिया।

(ii) भारत माता की पहचान दृश्य रूप में प्रस्तुत की गयी।

(iii) 1870 के दशक में बंकिम चट्टोपाध्याय ने मातृभूमि की स्तुति में बंदेमातरम गीत लिखा था।

(iv) राष्ट्रवाद का विचार भारतीय लोककथाओं को पुनर्जीवित करके भी विकसित किया गया। 

116 Views