Chapter Chosen

कबीर

Book Store

Download books and chapters from book store.
Currently only available for.
CBSE Gujarat Board Haryana Board

Previous Year Papers

Download the PDF Question Papers Free for off line practice and view the Solutions online.
Currently only available for.
Class 10 Class 12

संतो देखत जग बौराना।

साँच कहीं तो मारन धावै, झूठे जग पतियाना।।

नेमी देखा धरमी देखा, प्रात करै असनाना।

आतम मारि पखानहि पूजै, उनमें कछु नहिं ज्ञाना।।

बहुतक देखा पीर औलिया, पढ़ै कितेब कुराना।

कै मुरीद तदबीर बतावैं, उनमें उहै जो ज्ञाना।।

आसन, मारि डिंभ धरि बैठे, मन में बहुत गुमाना।

पीपर पाथर पूजन लागे, तीरथ गर्व भुलाना।।

टोपी पहिरे माला पहिरे, छाप तिलक अनुमाना।

साखी सब्दहि गावत भूले, आतम खबरि न जाना।।

हिन्दू कहै मोहि राम पियारा, तुर्क कहै रहिमाना।

आपस में दोउ लरि लरि मूए, मर्म न काहू जाना।।

घर-घर मंतर देत फिरत हैं, महिमा के अभिमाना।

गुरु के सहित सिख सब बूड़े, अंत काल पछिताना।।

कहै कबीर सुनो हो संतो, ई सब भर्म भुलाना।

केतिक कहीं कहा नहिं मानै, सहजै सहज समाना।।


प्रसंग- स़ंत कबीरदास भक्तिकाल की निर्गुण-ज्ञानमार्गी शाखा के प्रतिनिधि कवि हैं। उनके द्वारा रचित पद संतो देखत जग कैराना ‘हमारी पाठ्य-पुस्तक ‘आरोह’ में सकलित है। इस पद में सत कबीर अपनी लगंत के साधुओं को इस संसार के पागलपन की बातें समझाते हुए कहते हैं:

व्याख्या-हे साधो! देखो तो सही, यह संसार कैसा पागल हो गया है। यदि यहाँ सत्य बात कहें तो सांसारिक लोग सत्य का विरोध करते हैं और मारने दौड़ते हैं, परन्तु झूठी बातों का विश्वास कर लेते हैं। इन लोगों को सत्य-असत्य का सही ज्ञान नहीं है। हिन्दू समाज के लोग राम की पूजा करते हैं और राम को अपना बताते हैं! इसी प्रकार मुसलमान लोग रहमान (अल्लाह) को अपना बताते हैं। ये हिन्दू और मुसलमान राम और रहमान की कट्टरता के समर्थक हैं और धर्म के नाम पर आपस में लड़ते रहते हैं। इन दोनों में से कोई भी ईश्वर की सत्ता के रहस्य को नहीं जानता। कबीर का कहना है कि इस संसार में मुझे अनेक लोग ऐसे मिले जो नियमों का पालन करने वाले थे और धार्मिक अनुष्ठान भी करते थे तथा प्रात: शीघ्र उठकर स्नान भी करते थे। इन लोगों का भी ज्ञान थोथा ही निकला। ये लोग आत्म तत्व को छोड्कर पत्थर से बनी मूर्तियों की पूजा करते हैं। इन लोगों को अपने ऊपर विशेष घमंड है और आसन लगाकर भी घमण्ड को नहीं त्याग पाए। इन लोगों ने तीर्थ और व्रतों का त्याग कर दिया और ये पीपल के वृक्ष और मूर्ति-पूजा के कार्यों में व्यस्त हो गए। ये हिन्दू लोग अपने गले में माला पहनते हैं तथा सिर पर टोपी धारण करते हैं। माथे पर तिलक लगाते हैं और छापे शरीर पर बनाते हैं। साखी और सबद का गायन भुला दिया है और अपनी आत्मा के रहस्य को ही नहीं जानते हैं। इन लोगों को सांसारिक माया का बहुत अभिमान है और घर-घर जाकर मंत्र-यंत्र देते फिरते हैं। इस प्रकार का ज्ञान प्राप्त करने वाले शिष्य और उनके गुरु दोनों ही अज्ञान के सागर में डूबे हुए हैं, इन्हें अपने अंत काल में पछताना पड़ेगा इसी प्रकार इस्लाम धर्म के अनुयायी अनेक पीर, औलिया, फकीर भी आत्मतत्त्व के ज्ञान से रहित पाए गए, जो नियमपूर्वक पवित्र कुरान का पाठ करते हैं, वे भी अल्लाह को सिर झुकाते हैं तथा अपने शिष्यों को कब पर दीया जलाने की बात बतलाते हैं। वे भी खुदा के बारे में कुछ नहीं जानते। कबीर के अनुसार हिन्दू और मुसलमान दोनों ही धार्मिक आडम्बरों में लिप्त हैं और ईश्वर की परम सत्ता से अपरिचित हैं।

मिथ्याभिमान के परिणामस्वरूप अब तो यह स्थिति हो गई है कि हिन्दुओं में दया और मुसलमानों में महर का भाव नहीं रह गया है। उनके स्वभाव और व्यवहार में कठोरता का भाव आ गया है। दोनों के घर विषय-वासनाओं की आग में झुलस रहे है। कोई जिबह कर और झटका मारकर अपनी वासनाओं की संतुष्टि करता है और इस प्रकार हँसते-चलते अपना जीवन व्यतीत करते हैं और अपने को सयाना अथवा चतुर कहलाने में गौरव का अनुभव करते हैं। ऐसे तथाकथित लोग हमारा उपहास करते हैं। कबीरदास जी कहते हैं कि इनमें कोई भी प्रभु के प्रेम का सच्चा दिवाना नहीं है। दूसरे शब्दों में, प्रभु के प्रति इनका प्रेम कृत्रिमता से युक्त है।

काव्य-सौष्ठव: प्रस्तुत पद में कबीर की आम बोल-चाल की सधुक्कड़ी भाषा का प्रयोग है। तद्भव शब्दों की बहुलता के साथ-साथ उर्दू के शब्दों का भी प्रयोग है। ‘पीपर-पाथर पूजन लागे’, ‘गुरुवा सहित शिष्य सब बूड़े’ में अनुप्रास सहज रूप से दर्शनीय है। चित्रात्मकता के साथ-साथ कबीर ने मानव धर्म का प्रतिपादन किया है। हिन्दू और मुसलमानों के धार्मिक आडम्बरों का विरोध किया गया है और बताया गया है कि आत्म-तत्त्व के ज्ञान के लिए किसी भी धार्मिक आडम्बर की आवश्यकता नहीं है।

16770 Views

भाव स्पष्ट कीजिए:

(क) मरम न कोई जाना।

(ख) साखी सब्दै गावत भूले आत्म खबर न जाना।

(ग) गुरुवा सहित सिस्य सब बूड़े।



(क) हिन्दू और मुसलमान दोनों ही आत्म-तत्त्व और ईश्वर के वास्तविक रहस्य से अपरिचित हैं, क्योंकि मानवता के विरुद्ध धार्मिक कट्टर और आडम्बरपूर्ण कोई भी धर्म ईश्वर की परम सत्ता का अनुभव नहीं कर सकता।

(ख) साखी और सबद कबीर के आत्मापरक ज्ञान के उपदेश हैं। वे इनके माध्यम से अपनी संगत के साधुओं को आत्मज्ञान बताते थे। उस समय के हिन्दु. और मुसलमान साखी और सबद पर ध्यान नहीं देते थे और धार्मिक कट्टरपन और आडम्बरों में विश्वास रखते थे। साखी और सबद के गायन के बिना हिन्दू और मुसलमान आत्म-तत्त्व के ज्ञान से अपरिचित थे।

(ग) कबीर ऐसे शिष्य और गुरु दोनों को डूबे हुए मानते थे जो अपने अभिमान में चूर-चूर हों और माया के वशीभूत हों। धार्मिक पाखंड और आडम्बरों में विश्वास रखते हों, घर-घर जाकर जन्त्र-मंत्र की शिक्षा देते हों। इस प्रकार के गुरु और शिष्य दोनों ही अज्ञानी हैं तथा अज्ञान के अंधकार में डूबे हुए हैं।

2455 Views

हम तौ एक एक करि जाना।

दोइ कहै तिनहीं कीं दोजग जिन नाहिंन पहिचाना।।

एकै पवन एक ही पानीं एकै जोति समांना।

एकै खाक गढ़े सब भाई एकै कोंहरा सांना।।

जैसे बाड़ी काष्ट ही काटै अगिनि न काटै कोई।

सब घटि अंतरि तूँही व्यापक धरै सरूपै सोई।।

माया देखि के जगत लुभानां काहे रे नर गरबांना।

निरभै भया कछू नहिं व्यापै कहै कबीर दिवाँनाँ।।


प्रसंग-प्रस्तुत पद ज्ञानमार्गी शाखा के प्रतिनिधि कवि कबीरदास द्वारा रचित है। कबीर की दृष्टि में ईश्वर एक है। वे आत्मा को परमात्मा का अंश मानते हैं। कबीर कण-कण में ईश्वर की सत्ता को देखते हैं।

व्याख्या-कबीरदास कहते हैं कि हम तो एक ईश्वर में विश्वास करते हैं। आत्मा भी परमात्मा का ही अंश है। जो लोग इनको पृथक्-पृथक् बताते हैं, उनके लिए दोजख (नरक) जैसी स्थिति है। वे वास्तविकता -को नहीं पहचान पाते हैं। हवा भी एक है। पानी भी एक ही है और सभी में एक ही ज्योति (प्रकाश) समाई हुई है। इसी प्रकार ईश्वर भी है और वही सभी में समाया हुआ है। कबीर और उदाहरण देकर बताते हैं कि एक ही मिट्टी से सभी बरतन बने हैं। मिट्टी एक है, बरतनों का आकार भले ही भिन्न-भिन्न हो। इसी प्रकार हमारे आकारों में भिन्नता तो हो सकती है पर सभी के मध्य जो आत्मा है, उसी परमात्मा का अंश है। इन बरतनों को गढ़ने वाला कुम्हार भी एक ही है, उसी ने मिट्टी को सानकर ये बरतन बनाए हैं। इसी प्रकार एक ही ईश्वर ने हम सब लोगों को एक ही प्रकार के तत्वों से बनाया है। जिस प्रकार बढ़ई लकड़ी को तो काटता है, अग्नि को कोई नहीं काट पाता, इसी प्रकार शरीर तो नष्ट हो सकता है, पर इसके भीतर समाई आत्मा को कोई नहीं काट सकता। सभी लोगों के हृदयों में तू ही अर्थात् परमात्मा ही समाया हुआ है, चाहे स्वरूप कोई भी धारण किया गया हो। यह संसार माया के वशीभूत है। माया बड़ी ठगनी है। माया को देखकर संसार लुभाता रहता है। मनुष्य को माया पर घमंड नहीं करना चाहिए। जब मनुष्य निर्भय बन जाता है तब उसे कुछ भी नहीं सताता। कबीर भी निर्भय हो गया है। वह तो अब दीवाना हो गया है।

विशेष-1. आत्मा को परमात्मा का अंश बताकर अद्वैतवाद का प्रतिपादन किया गया है।

2. एक ईश्वर की मान्यता प्रतिपादित की गई है।

3. अनुप्रास अलंकार काष्ट ही काटे, सरूपै सोई, कहै कबीर

4. उदाहरण देकर बात स्पष्ट की गई है।

5. सधुक्कड़ी भाषा का प्रयोग है।

39820 Views

कबीर के दोहों को साखी क्यों कहा गया है?


साखी ‘शब्द’ या ‘साक्षी’ का अपभ्रंश रूप है। इस रूप में यह शब्द उस अनुभूति का द्योतक है, जिसको कवि ने अपनी बुद्धि से नहीं वरन् अपने अंत:करण से साक्षात्कार किया है। ये साखियाँ उस ज्ञान की साक्षी भी हैं और उसका साक्षात्कार कराने वाली भी हैं। ‘साखी’ शब्द में ‘शिक्षा’` या ‘सीख’ अर्थात् उपदेश देने का अथ भी निहित है। इन साखियों में नैतिक उपदेश का समावेश मिलता है। छंद की दृष्टि से ‘साखी’ दोहा के निकट है।

990 Views

कबीर के जीवन और साहित्य के विषय में आप क्या जानते हैं?


जीवन-परिचय-हिन्दी साहित्य के स्वर्णयुग भक्तिकाल में निर्गुण भक्ति की ज्ञानमार्गी शाखा के प्रतिनिधि कवि कबीरदास का जन्म काशी में सन् 1398 ई में हुआ था। इनका जन्म विधवा ब्राह्मणी के गर्भ से हुआ। लोक-लाज के भय से उसने इनको काशी के लहरतारा तलाब पर छोड़ दिया। नि -सन्तान जुलाहा-दम्पती नीरू और नीमा ने इनका पालन-पोषण किया। इनकी पड़ाई-लिख, में रुचि न देखकर इनके माता-पिता ने इन्हें व्यवसाय में लगा दिया। बचपन से ही कबीर जी को प्रभु- भजन, साधु-सेवा व सत्संगति से लगाव था। इन्होंने रामानन्द जी को अपना गुरु बनाया। इनके माता-पिता ने इनका विवाह ‘लोई’ नाम की एक कन्या से कर दिया। कमाल और कमाली नामक इनकी दो सन्तानें हुईं। इनके जीवन का अधिकांश समय समाज-सुधार, धर्म-सुधार, प्रभु- भक्ति और साध -सेवा में बीता। इन्होंने सन् 1518 ई. में मगहर (बिहार) में अपना नश्वर शरीर त्यागा।

रचनाएँ-कबीर की वाणी का संग्रह ‘बीजक’ है। उसके तीन भाग हैं-रमैनी, सबद और साखी। कबीर विद्वान् सन्तों की संगीत में बैठकर श्रेष्ठ ज्ञानी बन गए थे। उनकी वाणी को उनके शिष्यों ने लिपिबद्ध किया।

काव्यगत विशेषताएँ-कबीर के साहित्य का विषय समाज-सुधार, धर्म-सुधार, निर्गुण- भक्ति का प्रचार और गुरु-महिमा का वर्णन

समाज सुधार-कबीर हिन्दू-मुस्लिम एकता के प्रवर्तक थे। उन्होंने समाज में व्याप्त जात-पति, ऊँच-नीच के भेदभाव और छुआछूत की बुराइयों का खुलकर विरोध किया। उनके भक्ति मार्ग में जात-पाँत का कोई स्थान न था। उन्होंने कहा है-

‘जात-पाँत पूछे नहिं कोई, हरि को भजे सो हरि को होई।’

धर्म सुधार-कबीर किसी धर्म के विरोधी नहीं थे; परन्तु किसी भी धर्म के आडम्बरों को सहन करने को तैयार न थे। उन्होंने हिन्दू धर्म की मूर्ति पूजा, व्रत, उपवास, छापा तिलक, माला जाप व सिर मुँडवाने के आडम्बरों का कड़ा विरोध किया-

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर।

कर का मनका डारि कै, मन का मनका फेर।।

मुसलमानों के रोजा, नमाज, हज-यात्रा तथा मांस भक्षण का कबीर जी ने कड़ा विरोध किया-

दिन भर रोजा रहत है, रात हनत है गाय।

यह खून वह बन्दगी, कैसे खुशी खुदाय।।

भक्ति- भावना-कबीर मूलत: निर्गुण भक्त थे। उनका ईश्वर निराकार एवं सर्वव्यापी है। उनका मत है कि जीव ब्रह्म का आ है। जीव और ब्रह्म के मिलन में माया बाधक है। गुरु का ज्ञान जीव और ब्रह्म के मिलन में सहायक है।

भाषा-शैली-निरक्षर और घुमक्कड़ प्रवृत्ति होने के कारण कबीर की भाषा यद्यपि विभिन्न प्रादेशिक भाषाओं के मेल से बनी ‘खिचड़ी’ अथवा ‘सधुक्कड़ी’ भाषा कहलाई, तथापि उनकी भाषा मर्म को छूने वाली है। इसमें पूर्वी हिन्दी, पश्चिमी हिंदी, पंजाबी राजस्थानी एवं उर्दू के शब्दों का मिश्रण है।

7287 Views