zigya tab

कहानी में 'मोटे-मोटे किस काम के हैं?' किन के बारे में और क्यों कहा गया? 


कहानी में ‘मोटे-मोटे किस काम के’ घर के बच्चों के लिए कहा गया है क्योंकि उनके माता-पिता काे लगता है कि वे केवल नौकरों पर हुक्म चलाते हैं और खा-पीकर आराम करते हैं। घर का कोई काम नहीं करते।
2187 Views

बच्चों के ऊधम मचाने के कारण घर की क्या दुर्दशा र्हुई?

बच्चों को जब घर के कार्य करने के लिए कहा गया तो वे करने के लिए तैयार तो हो गए लेकिन उन्हें कुछ भी न आता था। नतीजा यह हुआ कि घर में ऐसा अहसास होने लगा जैसे तूफ़ान आ गया हो। सबसे पहले दरी साफ की गई जिसने इतनी धूल उड़ाई कि घर ही धूल से भर गया बाद में पानी डालने से दरी की धूल कीचड़ ही हो गई। फिर पड़ी को पानी देने के बारे में सोचा तो छोटे से छोटा बर्तन भी इस कार्य हेतु जुज लिया गया और नल पर इतना झगड़ा हुआ कि कोई पानी न भर सका।
मुर्गियों को दड़बे में बंद करने की सोची गई तो सारी की सारी मुर्गियाँ घर में फैल गई , भेड़ों काे दाने का सूप दिया गया तो जैसे घर में तूफ़ान ही आ गया। बच्चों ने दूध दुहने की सोची तो भैंस को चाचाजी की चारपाई से इस कदर बाँधा कि वह चाचाजी को चारपाई समेत लेकर ही भाग गई।
शाम होने तक सारे घर में मुर्गियाँ, भेड़ें, टूटे हुए तसले. बालटियाँ, लोटे, कटोरे व बच्चे इस कदर दिखाई पड़ने लगे जैसे घर में तूफान आ गया हो। इस प्रकार बच्चों के ऊधम मचाने से घर की दुर्दशा हुई।

921 Views

“या तो बच्चाराज कायम कर लो या मुझे ही रख लो।” अम्मा ने कब कहा? और इसका परिणाम क्या हुआ?

“या तो बच्चाराज कायम कर लो या मुझे ही रख लो।”  - ये शब्द अम्मा ने तब कहे जब बच्चों ने पूरे दिन घर का काम करके ऊधम ही मचा दिया। पूरे घर में जैसे भूचाल ही आ गया।
अम्मा ने निर्णय कर लिया कि यदि घर का काम बच्चे ही करेंगे तो वे यहाँ नहीं रहेंगी। अपने मायके आगरा चली जाएँगी। इसका परिणाम यह निकला कि अब्बा ने सभी बच्चों को हिदायत दी कि अब कोई भी घर के काम को हाथ नहीं लगाएगा यदि किसी ने घर का काम किया तो उसे रात का खाना नहीं दिया जाएगा।

749 Views

क्या बच्चों ने उचित निर्णय लिया कि अब चाहे कुछ भी हो जाए, हिलकर पानी भी नहीं पिएँगे?

बच्चों ने न काम करने का निर्णय उचित नहीं लिया क्योंकि ऐसे तो वे कभी-भी कोई काम करना सीख ही न पाएँगें। उन्हें चाहिए था कि माता-पिता की देख-रेख में कार्य करने शुरू करते और माता-पिता का भी कर्तव्य था कि उन्हें काम सिखाने में उनकी मदद करते।
833 Views

‘कामचोर’ कहानी क्या संदेश देती है? 

‘कामचोर’ कहानी यह संदेश देती है कि बच्चों को घर के कामों से अनभिज्ञ नहीं होना चाहिए। कुछ छोटे-मोटे कार्यो को करने की आदत डालनी चाहिए। माता-पिता को भी चाहिए कि बच्चों से छोटे-छोटे कार्य करवा कर उन्हें काम करने की आदत डालें। न कि उन्हें पूर्णतया नौकरों पर निर्भर कर दें।
इस पाठ में भी यही दर्शाया है कि पहले तो माता-पिता ने बच्चों को काम करने की आदत डाली नहीं और जब उन्हें काम करने को कहा तो वे बेचारे कुछ कर नहीं पाए इसमें उनका भी कोई कसूर न था। अपनी ओर से तो उन्होंने कार्य करने की पूरी कोशिश की थी।
2511 Views