Press "Enter" to skip to content

Posts published in June 2020

कः कालः कानि मित्राणि को देशः कौ व्ययागमौ । कश्चाहं का च मे शक्तिरिति चिन्त्यं मुहुर्मुहुः ॥

Pankaj Patel 0

कः कालः कानि मित्राणि को देशः कौ व्ययागमौ । कश्चाहं का च मे शक्तिरिति चिन्त्यं मुहुर्मुहुः ॥ भावार्थ: कैसा समय (परिस्थिति) है, कौन मेरे मित्र हैं, में किस देश में…

आशुतोष मुखर्जी – बंगाल के ख्यातिलब्ध बैरिस्टर तथा शिक्षाविद

Rina Gujarati 0

आशुतोष मुखर्जी (1864-1924), बंगाल के ख्यातिलब्ध बैरिस्टर तथा शिक्षाविद थे। वे सन् 1906 से 1914 तक कोलकाता विश्वविद्यालय के उपकुलपति रहे। उन्होंने बंगला तथा भारतीय भाषाओं को एम.ए. की उच्चतम…

दामोदर धर्मानंद कोसांबी – प्रतिभा सम्पन्न वैज्ञानिक, भाषा विज्ञानी और गणितज्ञ

Rina Gujarati 0

दामोदर धर्मानंद कोसांबी का जन्म 31 जुलाई, 1907 ई. को गोवा में हुआ था। धर्मानंद प्राचीन भारतीय इतिहास के प्रसिद्ध विद्वान, भाषा-वैज्ञानिक और गणितज्ञ माने जाते थे। इनके पिता बौद्ध…

बाबू देवकीनन्दन खत्री – हिंदी के प्रथम तिलिस्मी लेखक

Rina Gujarati 0

बाबू देवकीनन्दन खत्री (29 जून 1861 – 1 अगस्त 1913) हिंदी के प्रथम तिलिस्मी लेखक थे। हिंदी भाषा के प्रचार प्रसार में उनके उपन्यास चंद्रकांता का बहुत बड़ा योगदान रहा…

प्रशान्त चन्द्र महालनोबिस – प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक एवं सांख्यिकीविद

Pankaj Patel 0

प्रशान्त चन्द्र महालनोबिस एक प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक एवं सांख्यिकीविद थे। उन्हें दूसरी पंचवर्षीय योजना के अपने मसौदे के कारण जाना जाता है। भारत की स्वत्रंता के पश्चात नवगठित मंत्रिमंडल के…

के. जी. सुब्रह्मण्यन – भारतीय आधुनिक कला के प्रणेताओ मे से एक

Rina Gujarati 0

के. जी. सुब्रह्मण्यन का जन्म 1924 में कुथुपरम्बा केरल, भारत में हुआ था, और शुरू में उन्होंने मद्रास के प्रेसीडेंसी कॉलेज में अर्थशास्त्र की पढ़ाई की। शिक्षा स्वतंत्रता संग्राम के…

एकेन शुष्कवृक्षेण दह्यमानेन वह्निना । दह्यते तद्वनं सर्वं दुष्पुत्रेण कुलं यथा ॥

Pankaj Patel 0

एकेन शुष्कवृक्षेण दह्यमानेन वह्निना । दह्यते तद्वनं सर्वं दुष्पुत्रेण कुलं यथा ॥ भावार्थ : किसी वन मे एक सूखा वृक्ष भी आग पकड्ने और फैलने पर संपूर्ण वन को जला…

राघवयादवीयम् – एक अद्भुत ग्रंथ जिसे ‘अनुलोम-विलोम काव्य’ भी कहते है

Rina Gujarati 0

राघवयादवीयम् नामक अति दुर्लभ एक ग्रंथ ऐसा भी है हमारे संस्कृत साहित्य मे, इसे तो सात आश्चर्यों में से पहला आश्चर्य माना जाना चाहिए — यह है दक्षिण भारत का…

દુનિયાનું પ્રથમ ATM – The first ATM of the world

Rina Gujarati 0

આજ કાલ આપણે એવી કેટલીય સગવડો વાપરતા હોઈએ છીએ કે તેમનાથી એવા ટેવાઇ જવાય છે અને તે ક્યારે શરૂ થઈ એ જાણીએ તો આશ્ચર્ય થયા વિના ના રહે. આવું જ…

वर्साय की सन्धि (Versailles treaty) प्रथम विश्वयुद्ध की औपचारिक समाप्ति।

Rina Gujarati 0

वर्साय की सन्धि प्रथम विश्वयुद्ध की समाप्ती के लिए विजेता राष्ट्रो और पराजित जर्मनी के बीच हुई, जिस पर 28 June 1919 को हस्ताक्षर हुए। इसकी वजह से जर्मनी को…

जसपाल राणा – भारत के प्रसिद्ध निशानेबाज

Rina Gujarati 0

जसपाल राणा (जन्म- 28 जून, 1976, चिलामू, टिहरी गढ़वाल) भारत के प्रसिद्ध निशानेबाज हैं। वर्ष 1995 की कॉमनवेल्थ शूटिंग चैंपियनशिप में 8 स्वर्ण जीतकर जसपाल राणा ने नया रिकॉर्ड बनाया…

पी. वी. नरसिम्हा राव – भारत के नौवे प्रधानमंत्री

Pankaj Patel 0

पी. वी. नरसिम्हा राव यानि पामुलापति वेंकट नरसिंह राव (जन्म- 28 जून, 1921, मृत्यु- 23 दिसम्बर, 2004) भारत के नौवें प्रधानमंत्री के रूप में जाने जाते हैं। इनके प्रधानमंत्री बनने…

पात्रं न तापयति नैव मलं प्रसूते स्नेहं न संहरति नैव गुणान् क्षिणोति । द्रव्याSवसानसमये चलतां न धत्ते सत्पुत्र एव कुलसद्मनि कॊSपि दीपः ॥

Pankaj Patel 0

पात्रं न तापयति नैव मलं प्रसूते स्नेहं न संहरति नैव गुणान् क्षिणोति । द्रव्याSवसानसमये चलतां न धत्ते सत्पुत्र एव कुलसद्मनि कॊSपि दीपः ॥ भावार्थ : एक सत्पुत्र एक दीपक के…

ઓનલાઈન શિક્ષણ – આજના બદલાયેલા સંજોગોમાં

Pankaj Patel 0

ઓનલાઈન શિક્ષણ અત્યાર સુધી કેટલાક વિશિષ્ટ લોકો, શાળાઓ, સંસ્થાઓ અને મોટે ભાગે Online Education Platforms માટેનો કોન્સેપ્ટ હતો. આપણે સહુ જાણીએ છીએ કે ઓનલાઇલ શિક્ષણ એ પ્રત્યક્ષ અથવા શાળાકીય શિક્ષણનું…

आशाया कृतदासो यः स दासः सर्वदेहिनां । आशा दासीकृता येन तस्य दासायते जगत् ॥

Pankaj Patel 0

आशाया कृतदासो यः स दासः सर्वदेहिनां । आशा दासीकृता येन तस्य दासायते जगत् ॥ भावार्थ : जिस व्यक्ति को आशा (बिना प्रयत्न किये ही किसी कार्य के सम्पन्न हो जाने…

मुनि तरुण सागर – प्रसिद्ध दिगंबर जैन मुनि या संत

Pankaj Patel 0

मुनि तरुण सागर जैन धर्म के भारतीय दिगम्बर पंथ के प्रसिद्ध मुनि थे। उन्होंने पूरे देश में भ्रमण किया। बचपन से ही तरुण सागर मुनि का अध्यात्म की और बड़ा…

राम राघोबा राणे – 1947 युद्ध के परमवीर चक्र विजेता

Pankaj Patel 0

राम राघोबा राणे वो परमवीर है जिन्हे यह सम्मान जीवित रहते प्राप्त हुआ। हम जानते है की PVC हमारे देश का सर्वोच्च सैनिक सम्मान है। जब किसी सैनिक का कार्य…

अंतर्राष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस – 26 June

Pankaj Patel 0

अंतर्राष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस वैश्विक कार्यवाही को मजबूत करने और मादक पदार्थो से मुक्त आंतरराष्ट्रीय समाज के लक्ष की प्राप्ति मे सहयोग करने के लिए प्रतिवर्ष…

अपूज्या यत्र पूज्यन्ते पूज्यानां तु विमानना । त्रीणि तत्र प्रवर्तन्ते दुर्भिक्षं मरणं भयं ॥

Pankaj Patel 0

अपूज्या यत्र पूज्यन्ते पूज्यानां तु विमानना । त्रीणि तत्र प्रवर्तन्ते दुर्भिक्षं मरणं भयं ॥ भावार्थ: जिस देश या समाज में अपूज्य और अयोग्य व्यक्तियों का सम्मान होता है और पूजनीय…

विश्वनाथ प्रताप सिंह – भारत के आठवें प्रधानमंत्री

Pankaj Patel 0

विश्वनाथ प्रताप सिंह भारत के आठवें प्रधानमंत्री थे और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके है। प्रधानमंत्री के तौर पर उनका शासन 2 दिसम्बर 1989 से 10 नवम्बर 1990,…

आपातकाल – लोकशाही का काला अध्याय

Pankaj Patel 0

25 जून 1975 से 21 मार्च 1977 तक का 21 महीने की अवधि में भारत में आपातकाल घोषित था। तत्कालीन राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमद ने तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी…

મૂળશંકર ભટ્ટ – સાહિત્યકાર કેળવણીકાર અને ગુજરાતના ‘જૂલે વર્ન’

Rina Gujarati 0

મૂળશંકર ભટ્ટ ભાવનગરના વતની અને ભાવનગરથી શિક્ષિત થયા તેમણે ભાવનગરની દક્ષિણામુર્તિથી અભ્યાસ પૂર્ણ કર્યો હતો. તેમણે 1921 માં મેટ્રિક કર્યું હતું. તેમણે મુખ્ય વિષય તરીકે સંગીતનો અભ્યાસ કર્યો હતો. હિન્દી-ગુજરાતી…

परमवीर ले. मनोजकूमार पांडेय – “Hero of Batalik”

Pankaj Patel 0

परमवीर ले. मनोजकूमार पांडेय का नाम सुनते ही नापाक पड़ोसी से कारगिल युद्ध की भयानक याद जहन मे आ जाती है। भारत ने पाकिस्तान से हुए सभी युद्ध जीते है,…

आपदि मित्र परीक्षा शूर परीक्षा रणाङ्गणे भवति । विनये वंशपरीक्षा स्त्रियः परीक्षा तु निर्धने पुंसि ॥

Pankaj Patel 0

आपदि मित्र परीक्षा शूर परीक्षा रणाङ्गणे भवति । विनये वंशपरीक्षा स्त्रियः परीक्षा तु निर्धने पुंसि ॥ भावार्थ : एक मित्र की असली परीक्षा किसी प्रकार की आपदा उपस्थित होने पर…

पं. श्रद्धाराम शर्मा – लोकप्रिय आरती ओम जय जगदीश हरे के रचयिता

Pankaj Patel 0

पं. श्रद्धाराम शर्मा (श्रद्धाराम फिल्लौरी) लोकप्रिय आरती ओम जय जगदीश हरे के रचयिता हैं। इस आरती की रचना उन्होंने 1870 में की थी। वे सनातन धर्म प्रचारक, ज्योतिषी, स्वतंत्रता संग्राम…

रानी दुर्गावती – युद्ध मे लड़ते हुए वीरगति प्राप्त गोंडवाना की शासक

Rina Gujarati 0

रानी दुर्गावती गोंडवाना की शासक थीं, जो भारतीय इतिहास की सर्वाधिक प्रसिद्ध रानियों में गिनी जाती हैं। दुर्गावती ने 16 वर्ष तक राज संभाला और अपनी किर्ति चरो दिशाओ मे…

दरबान सिंह नेगी – “विक्टोरिया क्रॉस” पाने वाले चंद भारतीय सैनिकों में से एक

Rina Gujarati 0

दरबान सिंह नेगी (जन्म- 4 मार्च, 1883; मृत्यु- 24 जून, 1950) प्रथम विश्व युद्ध के दौरान उन चंद भारतीय सैनिकों में से एक थे, जिन्हें ब्रिटिश राज का सबसे बड़ा…

ओंकारनाथ ठाकुर – काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के गन्धर्व महाविद्यालय के प्रधानाचार्य

Rina Gujarati 0

ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, संगीतज्ञ एवं हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीतकार थे। उनका सम्बन्ध ग्वालियर घराने से था। उन्होने वाराणसी में महामना पं॰ मदनमोहन मालवीय के आग्रह पर बनारस हिन्दू…

आपदर्थे धनं रक्षेद्वारन्रक्षेद्धनैरपि । आत्मानं सततं रक्षेद्वारैरपि धनैरपि ॥

Pankaj Patel 0

आपदर्थे धनं रक्षेद्वारन्रक्षेद्धनैरपि । आत्मानं सततं रक्षेद्वारैरपि धनैरपि ॥ भावार्थ: एक बुद्धिमान् व्यक्ति को अचानक उपस्थित होने वाली आपदाओं से सुरक्षा हेतु धन संपत्ति बचा कर रख्रनी चाहिये तथा अपने…

आचार्य श्री तुलसी – अणुव्रत अनुशास्ता युगप्रधाना

Rina Gujarati 0

आचार्य तुलसी (20 अक्टूबर 1914 – 23 जून 1997) जैन धर्म के श्वेतांबर तेरापंथ के नवें आचार्य थे। वो अणुव्रत और जैन विश्व भारती विश्वविद्यालय के प्रवर्तक हैं एवं 100…

प्लासी का युद्ध – सिर्फ 300 सैनिको, रिश्वत एवं आपसी फुट से जीता गया युद्ध

Rina Gujarati 0

प्लासी का युद्ध 23 जून 1757 को मुर्शिदाबाद के दक्षिण में 22 मील दूर नदिया जिले में भागीराथी नदी के किनारे ‘प्लासी’ नामक स्थान में हुआ था। इस युद्ध में…

डॉ॰ श्यामाप्रसाद मुखर्जी – शिक्षाविद्, चिन्तक और जनसंघ के संस्थापक

Rina Gujarati 0

डॉ॰ श्यामाप्रसाद मुखर्जी (जन्म: 6 जुलाई 1901 – मृत्यु: 23 जून 1953) शिक्षाविद्, चिन्तक और भारतीय जनसंघ के संस्थापक थे। 6 जुलाई 1901 को कलकत्ता के अत्यन्त प्रतिष्ठित परिवार में…

बारिश की बात – बारिश पड़े तो भागिए नहीं

Rina Gujarati 0

बारिश पड़े तो भागिए नहीं……. छत नहीं खोजिये…….. छाते कभी-कभार बंद रखिये…… किस बात का डर है……? भीग जायेंगे न………..? तो क्या हुआ…… पिघलेंगे नहीं.. …. फिर से सूख जायेंगे..…

International Olympic Day – अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक दिवस – 23 June

Pankaj Patel 0

International Olympic Day वैसे तो अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक दिवस की शुरुआत 23 जून 1948 को हुई पर इससे काफी पहले ओलंपिक गेम्स (Olympic Games) की शुरुआत की जा चुकी थी। पहला…

ગિજુભાઈ બધેકા – મૂછાળી મા ના નામથી જાણીતા શિક્ષણવિદ્

Rina Gujarati 0

ગિજુભાઈ બધેકા (૧૫ નવેમ્બર ૧૮૮૫ – ૨૩ જૂન ૧૯૩૯) શિક્ષણવિદ્ હતા, જેમણે ભારતમાં મોન્ટેસરી શિક્ષણની રજૂઆતમાં અગત્યનો ભાગ ભજવ્યો હતો. તેઓ “મૂછાળી મા” ના હૂલામણાં નામથી જાણીતા હતા. તેઓ શિક્ષણવિદ્…

अन्तरराष्ट्रीय विधवा दिवस – International Widow’s Day – 23 June

Pankaj Patel 0

अन्तरराष्ट्रीय विधवा दिवस – International Widows Day पूरे विश्व में प्रतिवर्ष 23 जून को मनाया जाता है। यह दिवस विधवा महिलाओं की समस्याओं के प्रति समाज में जागरुकता फ़ैलाने के…

कनिष्क विमान हादसा – 23 June 1985 – केनेडा का सबसे बड़ा विमान हादसा

Rina Gujarati 0

‘आज के दिन साल 1985 में कनाडाई एक ऐसी खबर के साथ उठे जिसपर भरोसा नहीं हो रहा था और जिस खबर ने हमारे देश को गहरे सदमे में डाल…

अपुत्रत्वं भवच्छ्रेयो न तु स्याद्विगुणः सुतः । जीवन्नप्यविनीतोSसौ मृत एव न संशयः ॥

Pankaj Patel 0

अपुत्रत्वं भवच्छ्रेयो न तु स्याद्विगुणः सुतः । जीवन्नप्यविनीतोSसौ मृत एव न संशयः ॥ भावार्थ: एक गुणहीन पुत्र के होने से तो पुत्र हीन होना ही श्रेयस्कर है क्योंकि ऐसा पुत्र…

अमरीश पुरी – हिन्दी फिल्मों के एक जानदार कलाकार

Rina Gujarati 0

अमरीश पुरी (जन्म:22 जून 1932 -मृत्यु:12 जनवरी 2005) चरित्र अभिनेता मदन पुरी के छोटे भाई अमरीश पुरी हिन्दी फिल्मों की दुनिया का एक प्रमुख स्तंभ रहे हैं। अभिनेता के रूप…

ज्यूसेपे मेत्सिनी – ‘इटली का स्पन्दित हृदय’

Rina Gujarati 0

राजाओ, जमीनदारो या संस्थानवादियो ने दुनियामे कहर ढाने मे कोई कमी नहीं रखी थी। समय इधर उधर हो सकता है, पर एशिया या यूरोप हर जगह दमन सामान्य जानो का…

भदन्त आनन्द कौसल्यायन – बीसवीं शती में बौद्ध धर्म के श्रेष्ठ क्रियाशील व्यक्ति

Rina Gujarati 0

डॉ॰ भदन्त आनन्द कौसल्यायन (5 जनवरी 1905 – 22 जून 1988) बौद्ध भिक्षु, पालि भाषा के मूर्धन्य विद्वान तथा लेखक थे। इसके साथ ही वे पूरे जीवन घूम-घूमकर राष्ट्रभाषा हिंदी…

चापेकर बंधु – अंग्रेज़ कमिश्नर को सहायक सहित गोली से जिन्हो ने भून दिया

Rina Gujarati 0

चापेकर बंधु दामोदर हरि चाफेकर, बालकृष्ण हरि चाफेकर तथा वासुदेव हरि चाफेकर को संयुक्त रूप से कहा जाता हैं। ये तीनों भाई लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के सम्पर्क में थे।…

ऑपरेशन बारबारोसा – जर्मनी का रूस पर आक्रमण

Rina Gujarati 0

संस्कृत मे एक प्रसिद्ध वाक्य कहा गया है, ‘युद्धस्य कथा रम्या’ । ये उक्ति सर्वथा उचित है, पर युद्ध की कथा मनोहारी होती है युद्ध कदापि नहीं। जब बात दुनिया…

अमरचंद बाठीया – ग्वालियर के अमर बलिदानी नगर शेठ

Rina Gujarati 0

यह कहानी है एक एसे शहीद वीर की जो खुद जैन होते हुए अहिंसा छोड़ तो ना सके, परंतु 1857 के संग्राम मे उनका योगदान बड़ा रहा। ग्वालियर के नगर…

उपदेशो न दातव्यो यादृशे तादृशे नरे । पश्य वानर मूर्खेण सुगृही निगृही कृता ॥

Pankaj Patel 0

उपदेशो न दातव्यो यादृशे तादृशे नरे । पश्य वानर मूर्खेण सुगृही निगृही कृता ॥ भावार्थ: बुद्धिमानी इसी में है कि हर किसी को बिना मांगे उपदेश या राय नहीं देनी…

મોહનલાલ પંડ્યા – ‘ડુંગળી ચોર’

Rina Gujarati 0

મોહનલાલ પંડ્યા ગાંધીજી અને સરદારના સાથીદાર બન્યા અગાઉ ભૂગર્ભ પ્રવૃત્તિઓમાં સક્રિય હતા. બોમ્બ બનાવવાને લાગતું સાહિત્ય પણ છુપા છાપખાનામાં છાપેલું. ભારતના સ્વાતંત્ર્ય સેનાની અને સમાજ સુધારક મોહનલાલ પંડ્યા ગાંધીજીના શરૂઆતના…

यिंगलक शिनवात्रा – थाइलेंड की सबसे युवा और प्रथम महिला प्रधानमंत्री

Rina Gujarati 0

यिंगलक शिनवात्रा यह नाम हमारे लिए शायद नया हो सकता है पर उनके बारे मे जानना रसप्रद भी है और प्रेरणादायक भी। इनके बारे मे जानने से दुनिया मे कैसे…

विश्व संगीत दिवस – World Music Day – 21 June

Rina Gujarati 0

विश्व संगीत दिवस (World Music Day) प्रत्येक वर्ष 21 जून को मनाया जाता है। संगीत की विभिन्न खूबियों की वजह से ही विश्व में संगीत के नाम एक दिन है।…

लक्ष्मणराव किर्लोस्कर – किर्लोस्कर समूह के स्थापक

Rina Gujarati 0

लक्ष्मणराव किर्लोस्कर, एक महाराष्ट्रियन ब्राह्मण थे और उनके पिता काशीनाथपंत एक वेदांत-पंडित थे। इसलिए, समाज को भी उम्मीद थी कि लक्ष्मणराव अपने पिता के कदमों पर चलेंगे। हालांकि, उन्होंने परंपराओं…

छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस – व्यस्त मुंबई का केन्द्र

Rina Gujarati 0

छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पूर्व में जिसे विक्टोरिया टर्मिनस कहा जाता था, एवं अपने लघु नाम वी.टी., या सी.एस.टी. से अधिक प्रचलित है। यह भारत की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई का…